ग्वालियर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ग्वालियर लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

तानसेन समारोह” का शताब्दी वर्ष : भव्यता देने के प्रयास शुरू

समारोह से पहले चलेगी सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रृंखला

कलेक्टर श्रीमती चौहान ने बैठक लेकर सांस्कृतिक कैलेण्डर तैयार करने के दिए निर्देश

कला मर्मज्ञों की राय लेकर तैयार होगा सांस्कृतिक कैलेण्डर

ग्वालियर :  शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में देश और दुनिया के सर्वाधिक प्रतिष्ठित महोत्सव “तानसेन समारोह” का इस साल शताब्दी वर्ष है। संगीतधानी ग्वालियर में सौवां तानसेन समारोह भव्यता के साथ आयोजित करने के लिये शहर में पूर्व से ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की श्रृंखला चलाई जायेगी। इस सिलसिले में कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने विभागीय अधिकारियों की बैठक ली और कलाकारों, कला रसिकों एवं शासकीय व अशासकीय संस्थाओं के सहयोग से सांस्कृतिक कार्यक्रमों का कैलेण्डर तैयार करने के निर्देश दिए।

कलेक्टर श्रीमती चौहान ने कहा कि यूनेस्को (संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन) द्वारा संगीतधानी ग्वालियर को म्यूजिक सिटी घोषित किया गया है। इसलिए म्यूजिक सिटी की भावना के अनुरूप सांस्कृतिक कार्यक्रमों के कैलेण्डर को अंतिम रूप दें। साथ ही इसे तैयार करने में संगीत एवं कला के क्षेत्र में काम कर रहीं संस्थाओं, कलाकारों, कला मर्मज्ञों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन से जुड़ी संस्थाओं की राय ली जाए। इसके लिए उन्होंने बैठक बुलाने के लिये भी कहा।

उन्होंने कहा कि तानसेन समारोह को भव्यता प्रदान करने के लिए सांस्कृतिक कैलेण्डर के आधार पर शहर में हर माह बैजाताल, महाराज बाड़ा स्थित टाउन हॉल, कलावीथिका इत्यादि स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित करें। इन कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाए, जिससे कलारसिक इन कार्यक्रमों का आनंद उठा सकें। साथ ही सौवां तानसेन समारोह के प्रति शहर में सकारात्मक वातावरण बन सके और बड़ी संख्या में जिलेवासी इस आयोजन से जुड़ें।

उल्लेखनीय है कि म्यूजिक सिटी की भावना के अनुरूप ग्वालियर शहर को सजाया सँवारा जा रहा है। इस कड़ी में राजा मानसिंह तोमर तिराहा के समीप से गाँधी रोड़ पर भारतीय शास्त्रीय संगीत के वाद्य यंत्रों पर केन्द्रित आकर्षक गैलरी स्थापित की जा रही है। इसी तरह मुरैना रोड़ पर स्थित पुरानी छावनी तिराहे को संगीत सम्राट तानसेन की थीम पर तैयार किया गया है। बैजाताल पर हर हफ्ते सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन हो रहा है। साथ ही शहर में अन्य प्रमुख मार्गों की दीवारों को मनमोहक चित्रकला (पेंटिंग) से सजाया सँवारा जा रहा है।

ज्योतिषाचार्य डॉ जैन सम्मानित

  

वैश्य महासम्मेलन मध्यप्रदेश युवा इकाई ग्वालियर महानगर द्वारा श्री उमाशंकर जी गुप्ता प्रदेश अध्यक्ष वैश्य महासम्मेलन मध्यप्रदेश के जन्मदिवस के उपलक्ष में सोमवार 24 जून 2024 को  सम्मान दिवस पर ज्योतिषाचार्य डॉ हुकुमचंद जैन को ज्योतिष के क्षेत्र में किए गए उत्कृष्ठ व उल्लेखनीय कार्यों के लिए  सम्मानित किया गया।

ज्ञात रहे ज्योतिषाचार्य डॉ हुकुमचंद जैन विगत तीन दशक से अनेक जटिल मुद्दों पर अपनी ज्योतिष द्वारा भविष्यवाणियां करते आ रहे हैं जो अक्सर कर सत्य सिद्ध हुई है।



पुण्यतिथि पर कांग्रेसियों ने दी संजय गांधी को श्रद्धांजलि

 

ग्वालियर। कांग्रेसजनों ने रविवार को पुण्यतिथि पर स्व. संजय गांधी जयेन्द्रगंज स्थित प्रतिमा स्थल पर पहुंचकर माल्यार्पण कर विनम्र श्रृद्धांजली अर्पित की। 

स्व. संजय गांधी को श्रद्धांजलि देते हुये कांग्रेस अध्यक्ष डॉ देवेन्द्र शर्मा एवं महापौर श्रीमती शोभा सिकरवार ने कहा कि आ.भा. कांग्रेस कमेटी के पूर्व महामंत्री स्व. संजय गांधी के द्वारा 1977-79 में केन्द्र की जनता पार्टी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिये निर्णायक संघर्ष किया। जिसके फलस्वरूप देश में श्रीमती इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार स्थापित हुई। स्व. गांधी ने परिवार नियोजन का कार्यक्रम चलाया जो आज प्रभावी सिद्ध हुआ। 
स्व. संजय गांधी को श्रद्धांजलि देने वालों में ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष प्रभूदयाल जौहरे, विधायक सतीश सिकरवार, वरिष्ठ नेता सुनील शर्मा, कार्यवाहक अध्यक्ष महाराज सिंह पटेल, वीर सिंह तोमर, संगठन मंत्री सुरेन्द्र यादव, अवधेश कौरव, जेएच जाफरी, सरमन सिंह राय, भैयालाल भटनागर, पूरन सिंह कुशवाह, सतीश मिश्रा, सेवादल अध्यक्ष हरेन्द्र सिंह गुर्जर, देशराज भार्गव एड, अवनीष गौड़, महेश मधुरिया, शंकर गाबरा, धर्मेन्द्र शर्मा धीरू, ब्लॉक अध्यक्ष हितेन्द्र यादव, ब्लॉक अध्यक्ष महादेव अपोरिया, अब्दुल हमीद पप्पू, राजेश खान, पार्षद पी.पी. शर्मा, सुरेंद्र साहू, अंकित कटठल, संजीव दीक्षित, आदि उपस्थित थे।  

ब्रह्माकुमारीज बिजनेस विंग की आध्यात्मिकता प्रेरित वित्तीय विकास कार्यशाला संपन्न

जो चाहिए वह दूसरों को दीजिए आपको कई गुना अधिक लौटकर मिलेगा - डॉ गुरचरण सिंह

किसी को आगे बढ़ते देख ईर्ष्या ना पाले आध्यात्मिकता की मदद से खुद को आगे बढ़ाएं -  बीके आदर्श दीदी 

मुस्कुराहट ही जीवन है, इसलिए सदा मुस्कुराते रहिए – बीके प्रहलाद 

 

ग्वालियर। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की भगिनी संस्था राजयोग एज्युकेशन एण्ड रिसर्च फाउंडेशन के व्यापार एवं उद्योग प्रभाग द्वारा आज एक कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में अबंडंस एक्सीलेटर हब के फाउंडर डॉ. गुरचरण सिंह, ब्रह्माकुमारीज की केंद्र प्रभारी बीके आदर्श दीदी, मुख्य अतिथि मुख्तियार सिंह यादव (सेवानिवृत्त वरिष्ठ लेखा परीक्षा अधिकारी) तथा विशिष्ट अतिथि डॉ. मनमोहन कौर, डॉ, कनुप्रिया आहूजा, उपस्थित थीं। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। तत्पश्चात बीके डॉ गुरचरण सिंह ने सभी को संबोधित किया और कहा कि सभी को वर्तमान में जीना चाहिए ज्यादातर लोग भूतकाल और भविष्य काल में जीते हैं यही अशांति का कारण बन जाता है।

उन्होंने कहा कि दीपावली पर लक्ष्मी (धन) को पूजते हैं इसका मतलब है कि लक्ष्मी अति आवश्यक है। अध्यात्म हमें संपन्न बनाता है हर क्षेत्र विशेष में सफल होने में सहायक भूमिका निभाता है। यहां तक कि आर्थिक रूप से भी सफल होने में अध्यात्म की भूमिका है। धन तनाव नहीं लाता जब व्यक्ति अध्यात्म के साथ धन कमाने में विश्वास रखता है। अधिक कमायें और अधिक टेक्स दें यह मानसिकता होनी चाहिए।  टेक्स बचाने की मानसिकता नहीं होनी चहिए।

सदैव सकारात्मक रवैया धन के प्रति रखें, धन के प्रति नकारात्मक रवैया न रखें। सदैव भरपूरता से जुड़े रहे। जो दिमाग पर चढ़ जाए वह माया है। जो आध्यात्मिकता से दूर ले जाए वह भी माया है।

दीपावली पर हम श्री लक्ष्मी जी, श्री गणेश जी, माँ सरस्वती जी की पूजा करते हैं ज्ञान की देवी मां सरस्वती के साथ जब गणेश जी की पूजा अर्चना के साथ हम आगे बढ़ते है तो श्री लक्ष्मी जी कृपा होती है। अर्थात धन जीवन में आता है। धन खराब नहीं है धन को सदा धन्यवाद कहिए धन ऊर्जा प्रदान करता है, तभी लक्ष्मी जी के हाथ से धन बरसता दिखाई देता है।

आदत और संस्कार -

बचत की आदत डालें

समस्याओं के लिए रोना छोड़कर बाधायों को छलांग लगाकर पार करें।

जो चाहिए वह दूसरों को दीजिए आपको कई गुना अधिक लौटकर मिलेगा

याद रखें में परमपिता परमात्मा की संतान हूं। इस बात का अभिमान नहीं स्वाभिमान होना चाहिए।

 बीके प्रहलाद भाई ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि सदैव सकारात्मक व अच्छा सोचे। हम अपनी-अपनी भूमिका निभा रहे हैं। दूसरों की नकारात्मकता से प्रभावित न हो, अपनी सकारात्मक से प्रभावित करें। जिसे जीवन जीने की कला आती है उसका जीवन बेहतर बन जाता है मुस्कुराहट ही जीवन है इसलिए सदा मुस्कुराते रहिए। आध्यात्मिक दृष्टिकोण से वित्तीय विकास कर सकते है। 

आध्यात्मिकता को साथ लेकर हम अपनी आर्थिक व्यवस्थाओं को मजबूत बना सकते हैं।

परमपिता परमात्मा से जुड़ने से हमें वह शक्तियां प्राप्त होती हैं जिनका रहस्य हम भूल गए हैं। कर्म ही भाग्य लिखते हैं। परमात्मा से जुड़कर कर्मों को श्रेष्ठ बनाकर भाग्य बदल सकते हैं।

डॉक्टर कनुप्रिया आहूजा ने कहा कि देवी और देवताओं से हमें पॉजिटिव एनर्जी प्राप्त होती है। किसी की उन्नति को देखकर प्रसन्न होंगे तो आप भी उन्नति को पाएंगे।

डॉ मनमोहन कौर ने कहा कि घृणा और द्वेष से दूर रहे आप पीछे चले जाएंगे आगे जाने के लिए घृणा और द्वेष को छोड़े सबके लिए अच्छा करें कभी किसी का बुरा नहीं  सोचे।

मुख्य अतिथि के रूप में पधारे सेवानिवृत लेखा परीक्षा अधिकारी मुख्तार सिंह यादव

ने कहा कि यह कार्यक्रम रुचिकर लगा में कार्यशाला से अभिभूत हूं। ऐसा लगता है, हम कुछ अच्छा कर सकते हैं अध्यात्म से आपकी कार्यप्रणाली में निखार आएगा आध्यात्मिकता के समावेश से हर कार्य संभव है। इस तरह की कार्यशाला होते रहना चाहिए क्योकि आज आर्थिक रीति से संपन्न होने के लिए काफी चुनौतियों का सामना मनुष्यों को करना पड़ता है। आध्यात्मिकता हमारी वितीय विकास में किस तरह से मदद करती वह इस कार्यशाला से हमने जाना।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही केंद्र प्रभारी बीके आदर्श दीदी ने कहा कि इंसान की इच्छाएं बहुत बढ़ गई है क्षमता से अधिक जब धन का खर्च करते हैं तो समस्याएं और ही बढ़ जाती हैं इन परिस्थितियों में आध्यात्मिकता को साथ लेकर बचत व समझदारी से व्यय कर जीवन को अनुकूल बना सकते हैं।

आध्यात्मिकता के साथ हम बहुत आगे जा सकते हैं, ऊंचाईयों पर जा सकते हैं। कम से कम खर्चे में कार्यों को अंजाम दें। ईश्वरीय ज्ञान से व्यसन व व्यर्थ धन खर्च से बच सकते हैं। धन को प्यार व सम्मान से खर्च करें।

किसी को देखकर ईर्ष्या ना पाले आध्यात्मिकता के साथ खुद को आगे बढ़ाएं। सदैव सीमित होकर अपनी गतिविधियों को अंजाम दें। जीवन में ध्यान व योग को अवश्य शामिल करें।

कार्यक्रम में बीके जीतू ने ब्रह्माकुमारीज के व्यापार एवं उद्योग प्रभाग की जानकारी दी तथा संस्थान के प्रतिभाशाली भाई बीके पवन ने अपनी नृत्य प्रस्तुति दी।

कार्यक्रम का कुशल संचालन एवं आभार बीके प्रहलाद ने किया।

कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोगो ने हिस्सा लिया।


संजय गांधी की 44वीं पुण्यतिथि पर कांग्रेस नमन करेगीः डॉ देवेन्द्र शर्मा

ग्वालियर 22 जून। शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ देवेन्द्र शर्मा ने बताया कि अ.भा. कांग्रेस कमेटी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव यूवा हृदय सम्राट स्व. संजय गांधी जी की आज 23 जून को 44वीं पुण्यतिथि के अवसर पर प्रातः 9.00 बजे जयेंद्रगंज स्थित संजय गांधी जी की प्रतिमा पर शहर जिला कांग्रेस कमेटी द्वारा माल्यार्पण कर नमन किया जाएगा।

पुण्यतिथि कार्यक्रम में विधायक, पूर्व विधायक, पूर्व अध्यक्ष, जिला कांग्रेस, ब्लॉक कांग्रेस, मंडलम कांग्रेस, सेक्टर कांग्रेस, यूवा कांग्रेस, महिला कांग्रेस, सेवादल, एनएसयूआई, विभाग प्रकोष्ठ, पार्षद, पार्षद प्रत्याशी सहित समस्त कांग्रेसजन सम्मिलित रहेंगे।

थाटीपुर ग्वालियर शासकीय क्वार्टर बंगलो पर लगे हुए हजारों वृक्षों की कटाई तत्काल रोकी जावे - महेश मदुरिया

 


ग्वालियर / थाटीपुर मुरार में बने सरकारी क्वार्टर बंगलो में कई हजार वृक्ष फल फूल रहे हैं उनको काटने की योजना जिला प्रशासन एवं हाउसिंग बोर्ड ग्वालियर द्वारा की जा रही है जो पर्यावरण संरक्षण के विरुद्ध है।

     भोपाल में भी मंत्रियों के बंगले जो पुराने हो चुके थे वहां 29000 वृक्ष लगे हुए हैं श्री कैलाश विजयवर्गीय नगरी प्रशासन एवं आवास मंत्री ने पर्यावरण संरक्षण को दृष्टिगत रखते हुए वृक्ष काटने का आदेश रद्द कर कहीं दूसरी जगह मंत्री आवास बनाने के लिए प्रस्तावित कर दिया। 

पूर्व में भी ग्वालियर के सांसद विधायक मंत्री भी मुख्यमंत्री को पत्र लिख चुके हैं I 

दलित आदिवासी महापंचायत के प्रदेश अध्यक्ष महेश मदुरिया ने बताया कि पूर्व में भारत सरकार के तत्कालीन केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जी श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी मध्य प्रदेश संस्कार के तत्कालीन राज्य मंत्री भारत सिंह कुशवाहा तब के सांसद विवेक शेजवलकर जी विधायक सतीश सिकरवार जी विधायक प्रवीण पाठक जी मध्य प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने भी मुख्यमंत्री मध्य प्रदेश शासन को कई पत्र लिखे हैं लेकिन वह पत्र पूर्व की सरकार ने रद्दी की टोकरी में डाल दिए थे लेकिन अब मुख्यमंत्री डॉक्टर मोहन सिंह यादव जी से उम्मीद है कि पेड़ वृक्ष और पौधे की कटाई पर तत्काल रोक लगाई जाए

मुख्यमंत्री जी एवं कैलाश विजयवर्गी जी मंत्री मध्य प्रदेश शासन नगरी प्रशासन एवं आवास ने प्रकृति की दृष्टि से भोपाल में वृक्षों की कटाई रोकने का आदेश दिया है स्वागत योग्य है हम चाहते हैं कि इसी तरीके का आदेश मध्य प्रदेश सरकार हस्तक्षेप कर पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देकर ग्वालियर जिला प्रशासन एवं मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड को तत्काल आदेश देकर वहां हो रही वृक्षों की कटाई तत्काल रुकवाने की कृपा करें तथा ग्वालियर के थाटीपुर में पुनर्घनत्वीकरण योजना को तत्काल प्रभाव से बंद किया जाए और अभी तक पेड़ मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड के अधिकारियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की जाए

 🙏

  महेश मदुरिया 

प्रांतीय अध्यक्ष 

दलित आदिवासी महापंचायत (दाम)मध्य प्रदेश

मोवा 9399227077

ग्वालियर जिले में भव्यता के साथ मना दसवाँ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

विश्व भर में योग दिवस का आयोजन भारत के लिए गौरव की बात – मंत्री कुशवाह

मंत्री नारायण सिंह एवं सांसद भारत सिंह ने नागरिकों के साथ किया योगाभ्यास

श्री अन्न संवर्धन अभियान के तहत हितग्राहियों को बाजरा बीज की किट भी सौंपी

 ग्वालियर :   पूरे देश और दुनिया के साथ ग्वालियर जिले में भी दसवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर गाँव-गाँव और शहर-शहर में सामूहिक योग कार्यक्रम हुए। यहाँ भारतीय पर्यटन एवं यात्रा प्रबंधन संस्थान (आईआईटीटीएम) में उद्यानिकी, खाद्य प्रसंस्करण एवं सामाजिक न्याय व दिव्यांगजन कल्याण मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह के मुख्य आतिथ्य में जिला स्तरीय कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस कार्यक्रम में सांसद श्री भारत सिंह कुशवाह भी शामिल हुए। कार्यक्रम में बड़ी स्क्रीन पर मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव के उदबोधन और उनके मुख्य आतिथ्य में भोपाल में आयोजित हुए राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण भी हुआ। मंत्री श्री कुशवाह ने इस अवसर पर कहा भारत के लिए गौरव की बात है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर पिछले 10 साल से पूरे विश्व में योग दिवस मनाया जा रहा है।

मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह व सांसद श्री भारत सिंह ने जनप्रतिनिधिगणों, शहर के नागरिकों एवं वरिष्ठ अधिकारियों के साथ योगाभ्यास किया। जिला स्तरीय कार्यक्रम में बड़ी संख्या में मौजूद प्रतिभागियों ने जब एक साथ-एक संकेत पर योगाभ्यास व प्राणायाम किए तो सम्पूर्ण वातावरण योगमय हो गया। आकाशवाणी के जरिए मिल रहे पल-पल के संकेतों पर योगाभ्यास किया गया। सामूहिक योगाभ्यास ने लोगों के मानस पटल पर योग के प्रति गहरी छाप छोड़ी।

मंत्री श्री कुशवाह ने जिला स्तरीय कार्यक्रम में शामिल हुए प्रतिभागियों का आहवान किया कि सभी लोग योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं। योग करने से हमें नई ऊर्जा मिलती है। योग से शारीरिक ही नहीं मानसिक मजबूती भी मिलती है और हमें चिकित्सक के यहाँ जाने की जरूरत नहीं रहती।

सांसद श्री भारत सिंह कुशवाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पूरी दुनिया ने योग को अपनाया है। यह हम सबके लिए खुशी की बात है। साथ ही कहा कि योग से मन को शांति मिलती है, बुद्धि का विकास होता है और शारीरिक क्षमता बढ़ती है। जिला स्तरीय सामूहिक योगाभ्यास में जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती दुर्गेश कुँअर सिंह जाटव व उपाध्यक्ष श्रीमती प्रियंका सतेन्द्र सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं पुलिस महानिरीक्षक श्री अरविंद सक्सेना, कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान, पुलिस उप महानिरीक्षक श्रीमती कृष्णावेणी देशावतु, पुलिस अधीक्षक श्री धर्मवीर सिंह, नगर निगम आयुक्त श्री हर्ष सिंह , जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री विवेक कुमार, आईआईटीएम के निदेशक श्री आलोक शर्मा, अपर कलेक्टर श्री टी एन सिंह व संयुक्त संचालक स्कूल शिक्षा श्री दीपक पांडेय सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने सामूहिक योग में भाग लिया। साथ ही योग संस्थाएं, विद्यार्थी, शिक्षक गण व बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक सामूहिक योग में शामिल हुए।

श्री अन्न प्रोत्साहन के लिये हितग्राहियों को सौंपी श्री अन्न बीज किट

उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री श्री नारायण सिंह कुशवाह एवं सांसद श्री भारत सिंह कुशवाह ने श्री अन्न के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से राज्य सरकार की योजना के तहत इस अवसर पर विभिन्न हितग्राहियों को बाजरा बीज की किट सौंपी। इन हितग्राहियों में श्री ध्रुव सिंह तोमर ग्राम मऊ, श्री बलवीर सिंह लोधी व श्री रामकिशोर लोधी ग्राम अकबरपुर एवं श्री रामकिशोर ग्राम आरौली शामिल हैं।

थाटीपुर ग्वालियर शासकीय क्वार्टर बंगलो पर लगे वृक्षों की कटाई तत्काल रोकी जावे - महेश मदुरिया

 



 ग्वालियर /  थाटीपुर मुरार ग्वालियर में बने सरकारी क्वार्टर बंगलो में कई हजार वृक्ष फल फूल रहे हैं उनको काटने की योजना जिला प्रशासन एवं हाउसिंग बोर्ड ग्वालियर द्वारा की जा रही है जो पर्यावरण संरक्षण के विरुद्ध है।

    महेश मदुरिया प्रांतीय अध्यक्ष दलित आदिवासी महापंचायत (दाम)मध्य प्रदेश ने कहा की भोपाल में भी मंत्रियों के बंगले जो पुराने हो चुके थे वहां 29000 वृक्ष लगे हुए हैं I  कैलाश विजयवर्गीय नगरी प्रशासन एवं आवास मंत्री ने पर्यावरण संरक्षण को दृष्टिगत रखते हुए वृक्ष काटने का आदेश रद्द कर कहीं दूसरी जगह मंत्री आवास बनाने के लिए प्रस्तावित कर दिया। 

   मंत्री जी एवं मध्य प्रदेश शासन ने प्रकृति की दृष्टि वृक्षों की कटाई रोकने का आदेश स्वागत योग्य है हम चाहते हैं कि इसी तरीके का आदेश मध्य प्रदेश सरकार हस्तक्षेप कर पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देकर ग्वालियर जिला प्रशासन एवं मध्य प्रदेश हाउसिंग बोर्ड को तत्काल आदेश देकर वहां हो रही वृक्षों की कटाई तत्काल रुकवाने की कृपा करें तथा सरकारी आवास को दूसरी जगह भूमि दी जावे।

  

अपने को स्वस्थ रखना जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है : प्रहलाद भाई

नशा नाश की जड़ है 

ग्वालियर। द्वितीय वाहिनी वि.स.बल. ग्वालियर द्वारा सामुदायिक भवन में आज एक निःशुल्क काउंसलिंग शिविर का आयोजन किया गया। जिसका विषय था नशा मुक्ति, तनाव प्रबंधन एवं सकारात्मक चिंतन। इस कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में प्रजापिता ब्रह्मा कुमारीज ईश्वरीय विश्व विद्यालय से राष्ट्रीय प्रेरक वक्ता एवं राजयोग ध्यान प्रशिक्षक बीके प्रहलाद भाई को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था। साथ में बीके महिमा बहन, बीके रोशनी बहन, बीके राजेंद्र सिंह उपस्थित थे। इस अवसर पर एसएएफ सैकेंड बटालियन से एडज्यूटेंट सुरेश यादव, डॉ ओम प्रकाश वर्मा, निरीक्षक नरेन्द्र कुशवाह, सूबेदार मेजर सुरेन्द्र गोयल, बीएचएम अरविन्द रावत सहित साप्ताहिक समाचार पत्र सत्यम के संपादक विनोद केशसनी भी उपस्थित थे।

कार्यक्रम कि शुरुवात में डॉ. ओम प्रकाश वर्मा ने स्वस्थ्य जीवन शैली पर प्रकाश डाला और बताया कि हमारा भोजन कैसा होना चाहिए। ऐसी चींजे खाने से बचना जो हमारे लिए हानिकारक है। खान पान में हमें शुद्ध सात्विक चींजे ही खानी चाहिए। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रतिदिन व्यायाम करें, ध्यान करें तथा नशे से अपने को दूर रखे। 

तत्पश्चात मुख्य वक्ता के रूप में पधारे बीके प्रहलाद भाई ने कहा कि आज हर तीसरा चौथा व्यक्ति किसी न किसी नशे का शिकार होता जा रहा है। और किसी भी तरह का नशा हमारे लिए हानिकारक है। यह हम जानते है फिर भी लोग उसके आदि हो जाते है। नशा नाश की जड़ है। नाश करने वाले व्यक्ति का सब कुछ खत्म हो जाता है नशे में इसलिए इससे हमें अपने को बचाना है। हमें अपने मन को शक्तिशाली बनाना होगा। हर प्रकार को बुराई और व्यसन को छोड़कर अपने जीवन को अच्छा बनाना होगा। हम सबको मिलकर एक मुहिम चलानी चाहिए कि खुद भी नशा नहीं करेंगे और दूसरों को भी नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करेंगे यह हम सबकी नैतिक जिम्मेदारी भी है। आज प्रायः देखने में आता है कि लोग छोटी छोटी बातों में चिंता कर लेते है तनाव में आ जाते है जिसका उनके स्वस्थ्य पर बुरा असर पडता है। अपने को स्वस्थ्य रखना जीवन कि सबसे बड़ी पूँजी है। स्वास्थ्य है तो सबकुछ है। ईश्वर ने हमें शरीर दिया है जो अनमोल है इसका ध्यान हमें ही रखना है। परमपिता परमात्मा ने अपनी जीवन चलाने के लिए इतनी लाजवाब गाड़ी प्रदान की है शरीर। आत्मा शरीर के बिना अपनी दैनिक क्रियाकलाप नहीं कर सकती आप जानते है कि हार्ट कि एक नाडी में ब्लॉक आ जाती है तो तीन- चार लाख से कम में ओपरेशन नहीं होता है, एक गुर्दा बदलने में भी लाखों का खर्चा आ जाता है ऐसे शरीर के अन्य पार्ट्स भी अनमोल है। हम इस अनुपम उपहार के लिए ईश्वर का धन्यवाद करना तो दूर उस गाडी को कचरे का डिब्बा बना लेते है। सोचिये जब आप कार में पेट्रोल कि जगह डीजल नहीं डालते क्योंकि इंजन ख़राब होने का डर है जबकि शरीर रुपी गाडी में बिना उसकी फिकर किये हम क्या क्या डाल देते है जैसे बीडी, सिगरेट, गुटखा, तम्बाकू ,शराव आदि । हमें इस जहर से अपने को बचाना है। और अपने को स्वस्थ्य रखना है।    

     इसलिए रोज रात को सोने से पहले चैक करो कि आज हमसे कोई भूल तो नहीं हुई यदि हुई है तो उसको वहां ही चैक कर ठीक करना है। ऐसा करने से हम अपने जीवन को वेहतर बना सकते है। इसके साथ ही उन्होंने नशे से होने वाले दुष्परिणाम बताते हुए कहा कि लाखों लोग वेवजह नशे कि लत से प्रतिवर्ष मौत का शिकार हो जाते है। साथ ही उन्होंने ने जीवन में खुश रहने के लिए तथा सकारात्मक उर्जा से अपने को भरपूर रखने के लिए राजयोग ध्यान के बारे में सभी को बताया।

कुछ रचनात्मक एक्टिविटी भी कराई जिसको सभी मे सराहा और खुश रहने के टिप्स भी दिये।

 कार्यक्रम में उपस्थित बीके महिमा बहन ने सभी को ध्यान का अभ्यास कराते हुए गहन शांति कि अनुभूति कराई।

अंत में एसएएफ बटालियन से पदाधिकारी एडज्यूटेंट सुरेश यादव ने सभी का आभार व्यक्त किया। तथा निरीक्षक नरेन्द्र कुशवाहा ने मंच का कुशल संचालन किया।

इस शिविर में लगभग एक सैकड़ा पुलिस के जवान उपस्थित थे। जिसका लाभ सभी ने लिया।

संत शहीदों की स्मृति में गंगादास जी की बड़ी शाला में भागवत कथा आरंभ

प्रथम स्वाधीनता संग्राम मे वीरांगना लक्षमी बाई की पार्थिव देह की रक्षा करते हुये बलिदान हुये  पूरणबैराठी सिद्धपीठ श्री गंगादास जी की बड़ी शाला के ब्रह्मलीन 745 संत  शहीदों की पावन स्मृति में प्रतिवर्ष आयोजित  होने बाली श्रीमद् भागवत कथा का शुभारंभ बड़ी शाला के सभागार में पूर्ण वैदिक विधि विधान से हुआ। कथा प्रारम्भ होने से पहले श्रीमद भागवत जी की शोभायात्रा कलश यात्रा के रूप में शाला परिसर में निकाली गई। मंदिर में पूजा अर्चना के बाद संत समाधियों और गद्दी का पूजन होकर व्यासपीठ और श्रीमद् भागवत जी का पूजन हुआ। इस बर्ष कथा के पारीक्षित श्री हनुमान जी महाराज होने से पूजन सिद्धपीठ के पीठाधीश्वर श्री महंत श्री राम सेवक दास जी महाराज ने भक्त जनों के साथ किया। 

कथा के प्रथम दिन कथा व्यास जी ने श्रीमद् भागवत महा पुराण के महत्व का बर्णन करते हुये कहा कि रामायण व्यक्ति को जीवन जीने की कला सिखाती है वहीं श्रीमद् भागवत कथा व्यक्ति की मृत्यु को आनन्दमय बना देती है व्यक्ति के अन्दर से मृत्यु के भय को मिटा देती है अपनी मृत्यु के भय से भयभीत राजा पारीक्षित भागवत कथा सुनने के बाद प्रशन्नता पूर्वक अपनी मृत्यु का वरण करता है 

कथा का प्रथम दिन होने से कथा संक्षिप्त रूप से पूरी की। आज कथा के दूसरे दिन शाम चार बजे कथा प्रारम्भ होगी। प्रथम दिवस की आरती में संत समाज के अलावा श्रीदस जी,नागाभजन जी,श्री नागा भगत दास जी,श्री राम दास जी,श्री सिया दुलारी शरण जी, घनश्याम दास जी पुजारी कैलाश नारायण जी,श्री शिवम तिवारी,श्री ब्रह्मदत्त दुबे जी, श्री पुरषोत्तम दास जी, अमित दुबे जी, श्रीमती मोनिका दुबे जी, श्रीमती प्रीति श्रीमती ममता कटारे जी ,श्री प्रशांत कटारे जी श्रीमती बबली शर्मा, मंजुला सिंह काँता कपरौलीया, आदि ने भाग लिया। बड़ी शाला के सभागार में कथा शाम चार बजे से रात्रि आठ बजे तक हौगी।

तिघरा जलाशय, जलालपुर एवं मोतीझील प्लांट का महापौर ने किया निरीक्षण

महापौर डॉ. सिकरवार ने निरीक्षण के दौरान सबसे पहले तिघरा के जल स्तर को लेकर जानकारी ली। जिसमें जल संसाधन विभाग के सहायक यंत्री वीरेन्द्र सिंह यादव द्वारा बताया गया कि एक दिन छोड़कर यदि हम जल सप्लाई करते हैं तो लगभग 31 जुलाई 2024 तक जल प्रदाय किया जा सकता है। इसके पश्चात मोतीझील स्थित वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का निरीक्षण किया तथा रॉ वाटर के लिए बनाये गए बैलेंसिंग टैंक को देखा एवं जल शुद्धीकरण की प्रक्रिया को समझा तथा आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके बाद महापौर डॉ. सिकरवार ने जलालपुर स्थित 160 एमएलडी वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का अवलोकन किया तथा आवश्यक निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।
निरीक्षण के दौरान मेयर इन काउंसिल के सदस्य अवधेश कौरव, अपर आयुक्त आरके श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री संजीव गुप्ता, जल संसाधन विभाग के सहायक यंत्री वीरेंद्र सिंह यादव, नगर निगम के सहायक यंत्री हेमंत शर्मा, महेंद्र प्रसाद अग्रवाल, महेश यादव सहित अन्य संबंधित इंजीनियर एवं अधिकारी उपस्थित रहे।

ज्येष्ठ माह प्रारंभ,भीषण गर्मी,लू,हनुमान, शनि जयंती,गंगा दशहरा पूजन का रहेगा विशेष महत्व

 

ज्येष्ठ माह में शनि देव, हनुमान जी और सूर्य देव की पूजा करने से विशेष  पुण्य फल प्राप्त होता है। वरिष्ठ ज्योतिषाचार्य डॉ हुकुमचंद जैन ने बताया वैशाख पूर्णिमा के अगले दिन से ज्येष्ठ मास शुरू हो जाता है  इस बार यह महीना 24 मई से प्रारंभ होकर 22 जून को समाप्त होगा।

सूर्य की ज्येष्ठता के कारण इसे जेठ माह  कहते हैं इस महीने में दिन विशेष रूप से बड़े और राते छोटी रहती है दिन मान अधिक होने के कारण ज्येष्ठ महीने में भीषण गर्मी पड़ती है ,लू चलती है  इसी महीने में नो तपा रहते है इनमे नो दिन सूर्य देव रोहिणी नक्षत्र में रहकर अपनी सीधी करने पृथ्वी पर डालने से पृथ्वी तवे के समान तपने लगती है। 

इस महीने में जल का दान करने से व्यक्ति के सारे पाप धुल जाते हैं और उसकी समस्त मनोकामनाएं शीघ्र पूर्ण होती है इसलिए प्याऊ लगवाना पक्षियों को जल, दाने की व्यवस्था करनी चाहिए। 

जैन ने कहा ज्येष्ठ महीने के स्वामी मंगल ग्रह है, जिसे ज्योतिष में साहस का प्रतीक माना गया है। यह महीना भगवान विष्णु और बजरंगबली का प्रिय मास है। 

ज्येष्ठ माह में ही शनि देव का जन्म हुआ था इसी महीने शनि ज्येष्ठ  अमावस्या को शनि जयंती मनाई जाती है इस वार यह 06 जून गुरुवार को है।

इस महीने के मंगलवार को श्रीराम जी पहली बार हनुमान जी से मिले थे।

पति की लंबी आयु के लिए ज्येष्ठ माह में वट सावित्री व्रत करना पुण्यदायक माना गया है।

सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए ज्येष्ठ माह में रविवार के व्रत करने से मान-सम्मान में वृद्धि, करियर में लाभ मिलता है। कुंडली में सूर्य मजबूत होता है।

देवी गंगा का पृथ्वी पर आगमन भी ज्येष्ठ माह में हुआ था, जिसे गंगा दशहरा कहते हैं इस बार यह 16 जून को है। इस दिन गंगा स्नान से पितरों की आत्म तृप्त हो जाती है। व्यक्ति के कष्ट, रोग, दोष दूर होते हैं।

ज्येष्ठ माह के दान आदि क्या करे

जैन ने बताया ज्येष्ठ माह में जल भरे घट, पंखे, जूते, चप्पल, खीरा, सत्तू, अन्न, छाता आदि का दान  जरूरत बंदों  में करें इससे लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं।

इस माह में पूरे महीने धरती आग उगलती है, सूर्य की तीव्र किरणें सीधा पृथ्वी पर पड़ती है, इस दौरान जल स्तर कम होने लगता है।

ज्येष्ठ में पेड़ पौधों में निरंतर पानी डालते रहें। ये कार्य कभी न खत्म होने वाला पुण्य देता है।

सूर्य के प्रचंड तेज को देखते हुए जेष्ठ मास में दोपहर 12 बजे से लेकर दोपहर 3 बजे तक घर में ही रहने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इससे हीट स्ट्रोक होने की संभावना बढ़ जाती है।

ज्येष्ठ में नौतपा के दौरान भीषण लू चलने के बीमार हो सकते हैं, इसलिए पानी पीते रहें और जरुरतमंदों के लिए भी जल की व्यवस्ता करें, प्याऊ लगवाएं,शरबत बांटें।

जैन के अनुसार जयेष्ठ मास में इस बार पांच शुक्रवार और पांच ही शनिवार रहने से अन्न , दालें तेल  और जरूरत की वस्तुएं महंगी होगी।  इस महीने सूर्य,शुक्र,बुध,गुरु का चतुरग्रह योग का शनि ग्रह से केंद्र योग राहु ग्रह से त्रिएकादश योग से अग्नि की घटनाएं बढ़ेगी,कही भूकंप के झटके ,तेज आंधी, भारी वर्षा से कही जीवन अस्त व्यस्त रहेगा विश्व में अशांति देखने मिलेगी।

कसस की आम बैठक संपन्न

 ग्वालियर l आदिम जाति कल्याण विभाग छात्रावास आश्रम शिक्षक अधीक्षक संघ  जिला सतना की बैठक जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह परिहार की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में मैहर- सतना जिले के शिक्षक एवं अधीक्षक सम्मिलित हुए सर्वसम्मत से जिले के कार्यकारिणी के गठन पर आमसभा में विचार विमर्श उपरांत नाम प्रस्तावित कर प्रांतीय अध्यक्ष डा जवर सिंह अग्र के पास अनुमोदन हेतु भेजा जाएगा। इसके साथ जिले में विभिन्न समस्याओं कर्मचारियों के क्रमोन्नति, पदोन्नति  स्थाई कर्मचारियों के नियमितीकरण के संबंध में विचार विमर्श किया गया। 

    


 शीघ्र ही संघ के माध्यम से समस्याओं के समाधान कराए जाने के प्रयास किए जाएंगे  ।सभा को श्रीनिवास सतनामी, राम सिया जी कोल, एवं जिला अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह परिहार ने संबोधित किया ।

इस अवसर पर श्रीनिवास सतनामी, प्रतिपाल सिंह , राम सिया कोल, श्रीमती सीमा सिंह, सतीष श्रीवास्तव, दिनेश प्रजापति, रामप्यारे भास्कर, भूपेंद्र सिंह जी, अमृतलाल कोल ,शंकर प्रसाद चौधरी, विनोद सिंह, संदीप सिंह, उत्तम सिंह, मंटू प्रजापति, राम प्रसाद गुप्ता, प्रदीप सिंह जयशूर ,छोटेलाल कोल,शैलेंद्र पानिका,  एस पी विद्यार्थी, श्रीमती सपना सिंह, संजुला सिंह, गायत्री पांडे, राकेश चौधरी इत्यादि लोग सम्मिलित हुए। कार्यक्रम का संचालन एवं आभार प्रदर्शन भूपेंद्र सिंह ने किया।

जाने चन्द्रमा ग्रह की वैदिक ज्योतिष जानकारी: ज्योतिषाचार्य डॉ हुकमचंद जैन

  

*मित्र:-* सूर्य, बुध।शत्रु: कोई नहीं।

*सम:-* मंगल, बृहस्पति, शुक्र, शनि।

*अधिपति:-* कर्क

*मूलत्रिकोण:-* 

 वृष 3° - 30°

*उच्च:-* वृष 3°नीच: वृश्चिक 3°कला/किरण: 16/8लिंग: स्त्रीलिंग।दिशा: उत्तर-पश्चिम।शुभ *रंग:-* रूपहला/चांदी जैसा रंग, सफेद।

*शुभ रत्न:-* मोती, चंद्र - रत्न।शुभ संख्या: 2, 11, 20देवता: दुर्गा, पार्वती।

बीज मंत्र :

ऊँ श्राम् श्रीम् शौम् से चंद्राय नम:। (11000 बार)।

*वैदिक मंत्र :-*

दघिशंखतुशाराभं क्षीरोदोर्णवसभवम् नवमि्।

भाशिनं भवत्या भामभोर्मुकुटभुशणम्।।

दान योग्य वस्तुएं :

दूध, दही, चावल, मोती, मिश्री, चांदी, सफेद फूल, सफेद कपड़ा या चंदन (सोमवार को शाम के समय)।

*स्वरूप :-*

आँखें, अत्यंत कामुक, वातरोगी, सुस्त प्रकृति, सरस, अस्थिर मानसकता, वृत्ताकार।सित्रिदोष व शरीर आकर्षक के अंग- पुरुष की बाईं आँख व महिला की दाईं आँख, गर्भाशय, छाती, गाल, अण्डाशय, रक्त, वात, कफ, मूत्राशय, पिंडली, मांस, पेट इत्यादि।

*त्रिदोष व शरीर के अंग :-*

पुरुष की बाईं आँख व महिला की दाईं आँख, गर्भाशय, छाती, गाल, अण्डाशय, रक्त, वात, कफ, मूत्राशय, पिंडली, मांस, पेट इत्यादि।

*होने वाले रोग :-*

क्षय रोग (टी. बी.), गले से संबंधित समस्याएं, खून की कमी, मधुमेह, मासिक अनियमितता, बेचैनी, सुस्ती, सूजन, गर्भाशय से संबंधित रोग, कफ, ड्राप्सी, फेफड़े की सूजन, गुर्दा, रक्त अशुद्धता, सिंग वाले जानवरों से भय, पानी से खतरा, उदरशूल, त्वचा रोग, क्षयरोग, वी.डी., खसरा, बदहजमी, नजला - जुकाम, पेचिश, हृदय रोग, फेफड़ा, अस्थमा, बुखार, पीलिया, पथरी, अतिसार/दस्त।

प्रतिनिधित्व :

हृदय, मन, मस्तिष्क, मूल।

*विशिष्ट गुण :-*

यह बच्चे को धारण करने की शक्ति देता है, संदेहशील, पानी व प्राकृतिक शक्तियों से संबंधित गर्भाधान का एक ग्रह, एक रेंगने वाला कीट।

*कारक :-*

जलीय स्थान, माता, हृदय, मस्तिष्क, समुद्री भोजन, मोती, रक्त, शरीर में स्थित तरल पदार्थ, पेट्रोलियम उत्पाद, सुगंध, बाइंर् आँख, बागवानी, यात्रा, भावनाएं, नमक, समुद्री दवा, आंत उतरना, व्यक्तित्व, तरल पदार्थ, विदेश यात्रा, शाही पकवान, परिवर्तन।

*व्यवसाय व जीविका :

पत्रकारिता, पर्यटन, यात्री, पानी का काम, आबकारी, महिला कल्याण, विज्ञापन, जलपान गृह, नाविक, नमक विक्रेता, यांत्रिक अभियंता (मकैनिकल इंजिनीयर), कृषि, अस्पताल, निर्संग होम, मवेशी, नौ - परिवहन, नौ - सेना, मत्स्य, पेट्रोलियम, मूंगा, दूध, मदिरा, मोती, पौधशाला, रासायनिक पदार्थ, शीशा/चश्मा। मंगल (तामसी, प्रज्वलित, क्षत्रिय)

ज्योतिषाचार्य डॉ हुकुमचंद जैन मो . 9425187186

जैन मिलन महिला विहर्ष माधोगंज का शपथग्रहण व सम्मान समारोह संपन्न

 

ग्वालियर / 2 मई को भारतीय  जैन मिलन क्रमांक 2 के स्थापना दिवस के अवसर पर शाखा की शपथग्रहण  व सम्मान समारोह संपन्न हुआ।

भगवान महावीर के 2550 वा निर्वाण वर्ष महोत्सव भी मनाया गया।

इस अवसर पर जैन मिलन की वीरांगना बहिनो  ने गेम्स व हाऊजी खेली नवीन पदाधिकारियों व नवीन सद्स्य को शपथ दिलाई।

 जैन मिलन महिला विहर्ष की सभी वीरांगना बहनों का सहयोग मिला

इसमें मुख़्य रूप से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अति वीरांगना  शीला जैन जी,राष्ट्रीय सयुंक्त मंत्री अति वीर राजेश जैन जी

क्षेत्रीय अध्यक्ष वीरांगना  अनीता जैन  जी

क्षेत्रीय मंत्री अति वीर  महेंद्र जैन   जी

क्षेत्रीय उप मंत्री वीरांगना  अंजली जैन जी

ग्रुप ए की संयोजिका वीरांगना  प्रीती जैन

राष्ट्रीय सद्स्य वीरांगना  लता जैन जी  शामिल रही अध्यक्ष वीरांगना  ममता जैन,सचिव वीरांगना  सरोज जैन,कोषाध्यक्ष वीरांगना दीपा जैन उपाध्यक्ष  ललिता जैन ,सहसचिव वीरांगना   सोनम जैन ,सह कोषाध्यक्ष वीरांगना  संगीता जैन ,सांस्कृतिक मंत्री वीरांगना नीलम जैन,प्रचार मंत्री वीरांगना रेखा जैन, को नवीन कार्यकारणी में चुना गया।

अन्य सभी कार्यकाणी के नवीन सदस्यों ने भी शपथ ग्रहण की।

कसस ने राम रक्षा पनिका को प्रांतीय महासचिव, सुनीता सिंगोरिया को प्रांतीय अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ, धर्मेंद्र सिंह परिहार को जिला सतना का जिला अध्यक्ष नियुक्त किया

 

मध्य प्रदेश 1 मई । आदिम जाति कल्याण विभाग छात्रावास आश्रम शिक्षक अधीक्षक संघ (CASAS-कसस) के संस्थापक प्रांतीय अध्यक्ष डॉ जवर सिंह अग्र ने कसस में राम रक्षा पनिका को प्रांतीय महासचिव एवं रीवा संभाग का प्रभारी , श्रीमती सुनीता सिंगोरिया को प्रांतीय अध्यक्ष महिला प्रकोष्ठ एवं इंदौर संभाग प्रभारी तथा श्री धर्मेंद्र सिंह परिहार को जिला सतना का जिला अध्यक्ष नियुक्त किया है ,साथ ही प्रांतीय अध्यक्ष डॉ जवर सिंह अग्र तीनो नवनियुक्त पदाधिकारी को अपने-अपने परिवार वाले संभाग में और जिले में आदिम जाति कल्याण विभाग छात्रावास आश्रम शिक्षक अधीक्षक संघ को मजबूत करने के साथ-साथ ही संघ का सदस्यता अभियान चलाकर जिला

 अध्यक्ष अपने जिले में जिला कार्यकारिणी का गठन कर प्राप्त से अनुमोदेश कराकर 15 दिवस में घोषित करने के निर्देश दिए हैं और प्रांतीय महासचिव एवं महिला प्रकोष्ठ की प्रांतीय अध्यक्ष को अपने परिवार वाले संभाग में संभाग के जिलों में संगठन में सक्रियता लाने के लिए कार्य करें तथा अपने शिक्षक  अधीक्षक अध्यापक साहित्य चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की समस्याओं के निराकरण करने के साथ-साथ ही छात्रावास आश्रम ऑन की समस्याओं का भी संघ के माध्यम से निराकरण करने का प्रयास कर करेंगे 

अपने नियुक्ति पर तीनों पदाधिकारी संघ हित में कार्य करने को कहा है तथा प्रांतीय अध्यक्ष अग्र का आभार व्यक्त किया है और कहा है कि जो जवाबदारी सोप गई है उसे पर सभी पदाधिकारी खरे उतरेंगे साथी तीनों नव नियुक्त पदाधिकारी को उनके समर्थकों ने बधाई दी है I 

दामोदर सिंह सिकरवार , जिला मुरैना के कसस जिला अध्यक्ष बने

मुरेना / आदमी जाति कल्याण विभाग छात्रावास आश्रम शिक्षक अधीक्षक संघ (CASAS - कसस) के संस्थापक प्रांत अध्यक्ष डॉ जवर सिंह अग्र ने संघ के बायोलॉज में दिए प्रावधान एवं शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिला मुरैना के आदिम जाति कल्याण विभाग के शिक्षक अधीक्षक दामोदर सिंह सिकरवार  को मिले समर्थन तथा संघ की सदस्यता उपरांत दामोदर सिंह सिकरवार को मुरैना जिले का जिला अध्यक्ष नियुक्त किया गया है  I 

कसस के संस्थापक प्रांत अध्यक्ष डॉ जवर सिंह अग्र दामोदर सिंह सिकरवार को पत्र सोंपते हुए बधाई दी तथा जिला कार्यकारिणी का 15 दिवस में गठन कर प्राप्त से अनुमोदित कराकर घोषित करने के निर्देश भी दिए हैं I  नियुक्ति पत्र सोपतें समय चंबल संभाग मुरैना के संभागीय अध्यक्ष राम नारायण दोहरे , अरिहंत लाल जैन , घनश्याम पाल , प्रेम नारायण उपस्थित थे विकास गुप्ता ने नवनियुक्त मुरैना के जिला अध्यक्ष दामोदर सिंह सिकरवार सहित सभी को मिठाई खिलाकर दामोदर सिकरवार जी को जिला मुरैना का अध्यक्ष बनने पर बहुत-बहुत बधाई दी दामोदर सिंह सिकरवार जी ने प्रांत अध्यक्ष का बहुत-बहुत आभार व्यक्त किया मुरैना के नाम नियुक्त अध्यक्ष को बधाई देने वालों में उत्तम कुमार बंसोरिया कुलश्रेष्ठ मुरैना के पूर्व जिला अध्यक्ष साहब सिंह तोमर जी और संघ हित तथा विभाग के शिक्षक अधीक्षक अध्यापक छात्रावास आश्रम की समस्या को लेकर संघर्ष करने का आश्वासन दिया और कहा कि किसी को भी किसी तरह की परेशानी नहीं आने दी जाएगी वह हमारे साथियों को यदि कोई मुरैना में पीड़ित करता है परेशान करता है तो किसी भी कीमत में बक्सा नहीं जाएगा उनके खिलाफ कार्रवाई कराई जाएगी और शिक्षक अधीक्षक अध्यापक के साथ-साथ छात्रावास आश्रमों की समस्याओं का निराकरण कराया जाएगा I 

आदिवासियों के राजा श्री राम के बाल सखा निषाद राज गुह्यराज की जयंती मनाई गई

ग्वालियर 13 अप्रैल l ग्वालियर के खल्लासी मोहल्ला शिंदे की छावनी नौगजा रोड पर भगवान निषाद राज गुह्यराज महाराज की जयंती दलित आदिवासी महापंचायत के अध्यक्ष महेश मदुरिया के नेतृत्व में दलितआदिवासी महापंचायत के संस्थापक संरक्षक कसस के संस्थापक प्रांत अध्यक्ष तथा अजाक विकास संघ के कार्यवाहक प्रांत अध्यक्ष डा जवर सिंह अग्र की अध्यक्षता तथा पन्नालाल बाथम कैलाश बाथम प्रिंस गोड़िया के संयोजन में जयंती धूमधाम से उनके चित्र पर माला अर्पण कर मनाई गई डा जवर सिंह अग्र ने अपने अध्यछीय  भाषण में निषाद राज महाराज के जीवन पर उल्लेख करते हुए कहा निषाद राज कॉल भील केवट मल्लाह मझवार कहार कश्यप गोडिया मछुआरा आदिवासी मूल निवासी के राजा का उपनाम है ऋगवेरपुर के राजा थे उनका नाम गुह्यराज था  आदिवासी समाज के थे भगवान निषाद राज ने ही वनवास काल में राम सीता तथा लक्ष्मण को केवट राज से कह कर गंगा पार करवाई थी I 

वे राम के बाल सखा थे निषाद राज और राम ने एक ही गुरुकुल में रहकर शिक्षा प्राप्त की थी आदिवासी समाज आज भी इनकी पूजा करते हैं भगवान निषाद राज श्रगवेगपुर प्रयागराज उत्तर प्रदेश के राजा थे बनवास के बाद राम ने अपनी पहली रात अपने मित्र बाल सखा निषाद राज जी के यहां बिताई थी निषाद राज की सी ने ही लंका पर विजय प्राप्त की थी l 

   लेकिन शुद्र समाज के होने के नाते सत्ता पर काबिज और इस समाज को शिक्षा का अधिकार न होने के कारण इनको भुला दिया गया विद्यालय महाविद्यालय और विश्वविद्यालय में इनको नहीं पढ़ाया गया क्योंकि उच्च वर्ग नहीं चाहता था कि उनके बारे में उनके समाज को जानकारी प्राप्त हो इस अवसर पर सर्व श्री महेश मदुरिया रामसहाय तोमर चंद्र प्रकाश बरैया बाथम समाज के अध्यक्ष प्रीतम बाथम जी छोटेलाल बाथम जी कमल बाथम जी अमित माझी जी संतोष बाथम जी भैरव केवट जी बच्चू गोरिया जी नरेश माझी शेर बाथम जगदीश बाथम भोला गोरिया रोहित बाथम किशोरी केवट दौलत केवट सोनू केवट रिंकू बाथम दीपू बाथम अनिल पवन माझी सुनील जी आदि बड़ी संख्या में उपस्थित थे  कार्यक्रम का संचालन प्रिंस गोड़िया ने किया और श्री राकेश बाथम ने आभार व्यक्त किया कार्यक्रम के अंत में मिष्ठान वितरण कर एक दूसरे का मुंह मीठा किया गया और उपस्थित जन समुदायों को बधाई दी गई I 

कसस जिला भिंड की जिला कार्यकारणी को छोड़कर समस्त मध्य प्रदेश के जिलों की संभाग की , कार्यकारणियां भंग - डॉ अग्र

 

आदिम जाति कल्याण विभाग छात्रावास आश्रम शिक्षक अधीक्षक संघ (CASAS-कसस) के प्रांतीय अध्यक्ष डॉ जवर सिंह अग्र ने आज मध्य प्रदेश की जिला और संभागीय कार्यकारिणी को भंग कर दिया गया है इससे जिला भिंड को दूर रखा गया है क्योंकि भिंड में जिला अध्यक्ष और जिला कार्यकारणी संघ के बायोलॉज के अनुसार सदस्य हैं तथा चंबल संभाग के संभागीय अध्यक्ष को भी इस प्रक्रिया से दूर रखा गया है चंबल संभाग के संभागीय अध्यक्ष यथापवत रहेंगे चंबल संभाग के संभागीय अध्यक्ष को संभागीय कार्यकारिणी का गठन कर प्रांत से अनुमोदित करने के निर्देश दिए हैं अब प्रदेश जो संघ के सदस्य होंगे उन्हीं को जिला अध्यक्ष और संभागीय अध्यक्ष नियुक्त किए जाएंगे संघ के बायोलॉजी में यही प्रावधान है जिला अध्यक्ष और संभागीय अध्यक्ष अपनी कार्यकारणी का गठन कर प्रांत से अनुमोदित कराकर घोषित करेंगे समस्त कार्यकारिणी को संघ का सदस्य होना अनिवार्य है

कसस के संस्थापक प्रांत अध्यक्ष जवर सिंह अग्र ने बताया  कि प्रदेश के लगभग 4 - 5 हजार छात्रावास अधीक्षकों की भर्ती आउटसोर्स से करने पर सरकार विचार कर रही है यदि ऐसा होता है तो अभी तक जो शिक्षक अधीक्षक हैं उनको हटाकर विभाग के विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पद पर पदस्थ किया जाएगा यदि ऐसा हुआ तो हमारे कई साथी शिक्षकों के घर और गृह जिला के साथ-साथ संभाग भी छूटेगा यदि हम सभी को पूर्व की तरह रहना है और छात्रावास आश्रम के नियमों के अनुसार अभी तक शिक्षकों को ही छात्रावास का अधीक्षक बनाया जाता रहा है ऐसे छात्रावास आश्रम नियम 1966 - 67 में साफ प्रावधान है कसस आउटसोर्सिंग से अधीक्षकों की भर्ती की जा रही प्रक्रिया का विरोध करेगा और छात्रावास आश्रमों को बचाने का कार्य करेगा वैसे भी शासन ने अनुसूचित जाति के समस्त जिलों में संचालित कन्या और बालक आश्रमों को वर्ष 2016 में बंद कर दिया गया है जिससे संघ बंद किए गए आश्रमों को चालू करने की मांग निरंतर कर रहा है और चालू करने का प्रयास करेगा I 

प्रांत अध्यक्ष ने आदिम जाति कल्याण विभाग के शिक्षक अधीक्षक और छात्रावास आश्रमों में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों से अपील की है कि संघ के सदस्य बने और जिलों में संघ को सक्रिय करें संघ एकता के लिए होता है बगैर संघ के आप में एकता नहीं हो सकती है वैसे भी संगठन मध्य प्रदेश शासन से पंजीकृत संगठन है जो विभाग का मात्र एक संघर्षशील संगठन है I 

डॉ अंबेडकर जयंती की तैयारी को लेकर डॉक्टर अंबेडकर जयंती समारोह समन्वय समिति की बैठक संपन्न

ग्वालियर 7 अप्रैल l आज इंडियन कॉफी हाउस में 14 अप्रैल को डॉक्टर अंबेडकर जयंती की तैयारी को लेकर डॉ आंबेडकर जयंती समारोह समन्वय समिति की बैठक मैं दलित आदिवासी महापंचायत के प्रांतीय अध्यक्ष महेश मदुरिया जी , कसस के संस्थापक प्रांत अध्यक्ष डा जवर सिंह अग्र , आजाद विकास संघ के जिला अध्यक्ष गुलाब घिरोन ,कोरी समाज संघ के चंदन सिंह खजुरिया , दलित समाज परिषद के जवाहरलाल गोयचंद्र प्रकाश बरैया , मुनेश निगम , स्वामी विजय माहोर , प्रिंष गोडिया , अमर सिंह चौहान, जीतू घचरैया, जगराम शाक्य, कैलाश बाथम, अशोक तरटिया, पप्पू खटीक, जीतू खटीक, भागीरथ बाबूजी आदि समाजसेवियों ने अपने-अपने विचार व्यक्त किया और ग्वालियर के सभी सामाजिक संगठनों से अपील की है कि पिछले वर्षों की भांति 14 अप्रैल को डॉक्टर अंबेडकर जयंती सभी संगठन धूमधाम से मनाऐं कई सामाजिक संगठन चल समारोह निकलेंगे उनसे अपील की है कि किसी को किसी प्रकार का व्यवधान न हो चल समारोह में भड़काऊ और किन्ही जाति धर्म से संबंधित नारे आदि न लगाऐं I

जयंती का अपने अपने क्षेत्र में अपनी अपनी कॉलोनी में अपने-अपने मोहल्ले में ज्यादा से ज्यादा प्रचार प्रसार किया जाए जयंती मनाने के लिए सभी ने एक राय होकर कहा कि आज से ही हमें अपने मसीहा के जन्मदिन के लिए तन मन  से लग जाना चाहिए जिस पर सभी ने अपनी समिति दी जयंती के अवसर पर प्रसादी वितरण भी की जाएगी l

Featured Post

25 जुलाई 2024, गुरूवार का पंचांग

*सूर्योदय :-* 05:39 बजे   *सूर्यास्त :-* 19:16 बजे  *विक्रम संवत-2081* शाके-1946  *वी.नि.संवत- 2550*  *सूर्य -* सूर्यदक्षिणायन, उत्तर  गोल  ...