राज्यवार खबरे लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
राज्यवार खबरे लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जीसीटी काउंसिल की बैठक 22 जून को

   पेट्रोल-डीजल को लेकर हो सकता फैसला

नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जीएसटी काउंसिल की 53वीं बैठक बुलाने का फैसला लिया है। 22 जून को नई दिल्ली में काउंसिल की बैठक होगी। जिसे काफी अहम माना जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, काउंसिल की मीटिंग में टेक्सटाइल, लेदर से जुड़े इन्वर्टेड ड्यूटी संबंधि अनियमिताओं को दूर करने पर फैसला लिया जा सकता है। कई वस्तुओं की दरों में बदलाव भी संभव है।

ईंधन और प्राकृतिक गैस पर हो सकता7.  है फैसला

इसके अलावा हवाई जहाज में इस्तेमाल होने वाले ईंधन और प्राकृतिक गैस को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार किया जा सकता है। पेट्रोलियम मंत्रालय जीएसटी के दायरे में लाने की पहले ही सिफारिश कर चुका है। एटीएफ को जीएसटी के दायरे में लाने पर विमान संचालन की लागत भी कम होगी।

जीएसटी दरों में हो सकती है बढ़ोतरी

टेक्सटाइल व लेदर जैसे कई आइटम्स में कच्चे माल और तैयार माल की GST दर अलग-अलग है। इससे टैक्स के भुगतान से लेकर रिटर्न भरने में कारोबारियों को परेशानी होती है। इन विसंगतियों को दूर करने के लिए कुछ आइटम की जीएसटी दरों में वृद्धि हो सकती है। वह उत्पाद भी महंगा हो सकता है। इससे पहले पिछले साल अक्टूबर में जीएसटी काउंसिल की बैठक हुई थी। तब कई राज्यों के विधानसभा चुनाव और उसके बाद आम चुनाव के कारण जीएसटी दरों में बदलाव नहीं किया गया था। 

व्यापारी भी कोविड योद्धा हैं - स्मृति ईरानी

 

नई दिल्ली l  केंद्रीय मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने आज देश के व्यापारिक समुदाय से वैश्विक चुनौतियों का सामना करने की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया मिशन के तहत अपने मौजूदा व्यापार मॉडल  को उन्नत और आधुनिक बनाने का आह्वान किया। वह देश के शीर्ष 150 ट्रेड लीडर्स को संबोधित कर रही थीं, जो कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) द्वारा नई दिल्ली में आयोजित हुए दो दिवसीय राष्ट्रीय व्यापारी सम्मेलन के लिए एकत्रित हुए थे।

सम्मेलन को संबोधित करते हुए श्रीमती ईरानी ने व्यावसायिक समुदाय को मजबूत करने और व्यावसायिक गतिविधियों के संचालन के नए और अभिनव तरीकों को अपनाने और स्वीकार करने के लिए जागरूकता प्रदान करने के लिए कैट की भूमिका की सराहना की। उन्होंने कहा कि देश के व्यापारियों ने हर बार जब भी जरूरत पड़ी है, बलिदान दिया है चाहे वह स्वतंत्रता संग्राम का आंदोलन हो या देश का सामाजिक आर्थिक विकास हो या पिछले दो वर्षो में कोरोना काल मे भारत के लोगों को दैनिक उपभोग्य वस्तुएं उपलब्ध कराने की  जरूरत को पूरा करना हो।  स्वयं तकलीफ झेलते हुए व्यापारी ने हमेशा देश की उन्नति और प्रगति के लिए हर विषम परिस्थितियों में खड़े रहे है।उन्होंने व्यापारिक नेताओं से उन व्यापारियों का दस्तावेजीकरण करने का आह्वान किया, जिन्होंने आर्थिक,  धार्मिक, शैक्षिक या किसी अन्य क्षेत्र में सामाजिक विभिन्न क्षमताओं में देश की सेवा की है। भारत के व्यापारियों के पास देश की सेवा करने की विरासत है। भामाशाह और लाला लाजपत राय को याद करते हुए उन्होंने कई अन्य लोगों को याद किया, जो कभी भी अपना महत्वपूर्ण समर्थन प्रदान करने में पीछे नहीं रहे। उन्होंने व्यापारियों को "कोविड वारियर्स" के समकक्ष बताया।

राष्ट्रीय सम्मेलन में मध्यप्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र जैन, सुनील अग्रवाल, अलका श्रीवास्तव, तेजकुलपाल सिंह पाली, गोविन्द दास असाटी, संदीप गोधा, मीरचंदानी,  कविता जैन, साधना शांडिल्य, बबीता डाबर, प्रिया दास, विवेक जैन, अजय चौपड़ा, ललित नागपाल, उमेश अग्रवाल, मनीष पिशाल, आनंद अग्रवाल सहित अनेक व्यापारी उपस्थित थे।

कांग्रेस के स्टार प्रचारक आरपीएन सिंह को सिंधिया ने भाजपा जॉइन कराई

नई दिल्ली । यूपी के कद्दावर नेता आरपीएन सिंह मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए। उन्हें केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भाजपा की शपथ दिलाई। उन्होंने आज सुबह कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर पार्टी से इस्तीफा दिया था। ऐसा कहा जा रहा है कि वे सपा के स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ कुशीनगर की पडरौना विधानसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं।

इससे पहले उन्होंने ट्वीट करके कहा कि यह मेरे लिए एक नई शुरुआत है। मैं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्‌डा जी और माननीय गृह मंत्री श्री अमित शाह जी के दूरदर्शी नेतृत्व और मार्गदर्शन में राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान देने के लिए तत्पर हूं।

गुना में छात्रावास में पढ़ने वाली बालिकाओं से अश्लील हरकत करने वाला शिक्षक गिरफ्तार

 टीचर दिखाता था पोर्न मूवी:​​​​​​​छात्राएं बोलीं- जब देखो तब ह्यूमन रीप्रोडक्टिव चैप्टर ही पढ़ाते हैं, कहते हैं फ्यूचर में काम आएगा

गुना ।गुना में सरकारी स्कूल का बायोलॉजी टीचर प्रदीप सोलंकी छात्राओं को पोर्न मूवी दिखा रहा था। छात्राओं का आरोप है कि टीचर उन्हें जब देखो तब रीप्रोडक्टिव चैप्टर ही पढ़ाते हैं। कहते हैं कि ये उनके फ्यूचर में काम आएगा। छात्राओं ने बुधवार रात कैंट थाने में टीचर की शिकायत की थी। गुरुवार को छेड़खानी और पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर टीचर को अरेस्ट कर लिया गया। DEO ने टीचर के सस्पेंशन के लिए कमिश्नर को लेटर लिखा है। बाल कल्याण समिति भी मामले की जांच कर रही है।

12वीं में बॉयो स्ट्रीम में 7 छात्राएं हैं। इसमें से 6 छात्राओं ने शिकायत दर्ज कराई है। छात्राओं ने स्कूल हॉस्टल की वार्डन को भी लेटर लिखकर शिकायत की थी। टीचर प्रदीप सोलंकी पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे। लेटर में लिखा था- टीचर बायोलॉजी का एक ही चैप्टर ह्यूमन रीप्रोडक्टिव सिस्टम बार-बार पढ़ाते हैं। पढ़ाते वक्त वह अश्लील फोटो और VIDEO दिखाते हैं। कहते हैं कि ये उनके भविष्य में काम आएगा। वे भी इसी तरह के फोटो दिखाया करें।

एक छात्रा ने लेटर में लिखा- टीचर क्लास रूम के बजाय बायोलॉजी लैब में ज्यादा क्लास लेते हैं। एक दिन वह अपनी दोस्त के साथ प्रैक्टिकल की कॉपी लेने गई। टीचर ने उसके साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की। वह किसी तरह छूटकर भागी। जब भी कहा कि आपकी शिकायत करेंगे, तो कहते थे कि वह जल्द स्कूल के प्रिंसिपल बनने वाले हैं। कोई कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा।

मामला सामने आने के बाद बाल कल्याण समिति जांच करने स्कूल पहुंची। इस दौरान स्कूल की पुरानी छात्राएं भी पहुंच गईं। उन्होंने बताया कि चार साल पहले भी टीचर ने उनके साथ ऐसी हरकत की थी।

निलंबित करने की कार्रवाई प्रस्तावित

छात्राओं ने अलग-अलग लेटर हॉस्टल वार्डन को लिखे हैं। वार्डन ने छात्राओं की शिकायत को जिला शिक्षा अधिकारी (DEO) को भेजा था। DEO चंद्रशेखर सिसोदिया ने छात्राओं की शिकायत को लोक शिक्षण संचालनालय के कमिश्नर को भेज दिया है। टीचर को निलंबित करने की कार्रवाई प्रस्तावित की गई है।

तमिलनाडु में ओमिक्रॉन वैरिएंट के एक साथ आए हैं 33 मामले

 

चेन्नई। तमिलनाडु में गुरुवार को कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट्स के 33 नए मामले आने से हड़कंप मच गया। कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए लोगों की जीनोम सीक्वेंसिंग के बाद ये मामले सामने आए हैं। इसके साथ, राज्य में ओमिक्रॉन मामलों की संख्या बढ़कर 34 हो गई। इससे पहले गुरुवार से पहले केवल एक मामले का पता चला था।

सभी मरीज स्थिर हैं और आइसोलेशन में हैं

स्वास्थ्य मंत्री एमए सुब्रमण्यन ने कहा, "हमें पुष्टि मिली है कि 33 और लोगों में नए ओमिक्रॉन वैरिएंट का पता चला है।" आज सुबह स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन के साथ प्रेस को संबोधित करते हुए, सुब्रमण्यम ने कहा कि 33 मामलों में से 26 मरीज चेन्नई में, चार मदुरै में, दो तिरुवनमलाई में और एक सलेम में पाया गया है। सुब्रमण्यम ने कहा कि सभी मरीज स्थिर हैं और आइसोलेशन में हैं।

उन्होंने कहा कि संदिग्ध मामले काफी समय से निगरानी में थे। मंत्री ने बताया कि उनमें से कुछ जल्द ही निगेटिव आ सकते हैं और उन्हें छुट्टी दी जा सकती है। गौरतलब है कि तमिलनाडु ने 15 दिसंबर को ओमिक्रॉन का पहला मामला दर्ज किया जब नाइजीरिया से आए एक 47 वर्षीय यात्री की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। 

ओमिक्रॉन की रफ्तार ने बढ़ाई टेंशन पीएम मोदी कल करेंगे कोरोना पर बड़ी बैठक

नई दिल्ली। देश में ओमिक्रॉन वैरिएंट के तेजी से प्रसार के बीच केंद्र सरकार ऐक्शन मोडी में आ गई है। एक तरफ जहां मंगलवार को केंद्र की तरफ से सभी राज्यों को कोरोना संबंधी सख्तियां बढ़ाने को कहा गया है तो वहीं, अब गुरुवार को खुद पीएम मोदी एक बड़ी बैठक करने वाले हैं। इस बैठक में पीएम मोदी कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा करेंगे। बता दें कि ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में ओमिक्रॉन के कुल 213 मामले हो गए हैं। 

ओमिक्रॉन वैरिएंट के सबसे ज्यादा मामले राजधानी दिल्ली में हैं। वहीं, महाराष्ट्र अब दूसरे नंबर पर है। पिछले 24 घंटे में देश के अंदर कोरोना से कुल 318 लोगों की जान गई है। दिल्ली में ओमिक्रॉन के 57 मामले दर्ज किए गए हैं तो वहीं महाराष्ट्र में यह आंकड़ा 54 है। 

दूसरी तरफ देश में ओमिक्रॉन संक्रमण के बढ़ते खतरे के बीच टीकाकरण की धीमी रफ्तार और बूस्टर डोज को लेकर विपक्ष की तरफ से सरकार की घेराबंदी शुरू हो गई है। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि हमारी अधिकांश आबादी का अभी भी टीकाकरण नहीं हुआ है। भारत सरकार बूस्टर शॉट्स कब शुरू करेगी? बता दें कि केंद्र सरकार ने कहा था कि वह इस साल के अंत तक व्यस्क आबादी का टीकाकरण पूरा कर लेगी।


वोटर ID को आधार कार्ड से जोड़ने वाला चुनाव कानून संशोधन बिल लोकसभा में पास

नई दिल्ली।  चुनाव कानून संशोधन विधेयक, 2021 सोमवार को लोकसभा में पास हो गया। बिल में वोटर लिस्ट में दोहराव और फर्जी मतदान रोकने के लिए वोटर ID और लिस्ट को आधार कार्ड से जोड़ने का प्रावधान है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने पिछले हफ्ते बुधवार को चुनाव सुधारों से जुड़े इस विधेयक के मसौदे को मंजूरी दी थी।

कानून मंत्री किरण रिजिजू ने बिल को लोकसभा में पेश किया। उन्होंने कहा कि सदस्यों ने इसका विरोध करने को लेकर जो तर्क दिया, वह सुप्रीम कोर्ट के फैसले को गलत तरीके से पेश करने का प्रयास है। यह बिल SC के फैसले के हिसाब से ही है।

लोकसभा में ब‍िल पर बहस के दौरान कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा क‍ि आधार एक 12 अंकीय विशिष्ट पहचान संख्या हैं, जिसमें नागरिकों की बायोमेट्रिक और जनसांख्यिकीय जानकारी शामिल है। आधार केवल निवास का प्रमाण होना चाहिए, यह नागरिकता का प्रमाण नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि अगर आप वोटर्स से आधार मांग रहे हैं तो आपको केवल एक दस्तावेज मिलेगा, जो नागरिकता नहीं बल्कि उसका निवास बताता है। ऐसा करके आप संभावित रूप से गैर-नागरिकों को भी मतदान का अधिकार दे रहे हैं।

तमिलनाडु में सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश, CDS विपिन रावत भी थे सवार, 11 लोगों के शव बरामद

तमिलनाडु के कुन्नूर जिले में सेना का हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया है। मिली जानकारी के मुताबिक इस हेलिकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी के अलावा 14 लोग सवार थे। घटनास्थल से अभी तक 11 लोगों के शव बरामद कर लिए गए हैं। इस बात की पुष्टि वायुसेना ने भी कर दी है। प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। 

सदन में रहें मौजूद, खुद में परिवर्तन लाएं वरना... पीएम मोदी ने भाजपा सांसदों को दी कड़ी नसीहत

नई दिल्ली । भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) संसदीय दल की बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई है। इस बैठक में पीएम मोदी ने पार्टी के सांसदों से सख्त लहजे में कहा कि वो मौजूदा शीतकालीन सत्र के दौरान सदन में उपस्थित रहें। सदन में मौजूद रहने की सख्त हिदायत के अलावा पीएम मोदी ने सांसदों को लोगों के हित में काम करने के लिए भी कहा। पीएम मोदी ने सत्र के दौरान संसद में ना आने वाले सांसदों को फटकार लगाई।

भाजपा संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी ने सदन में पार्टी सांसदों की अनुपस्थिति पर चिंता जाहिर की। सूत्रों के मुताबिक बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा, 'अगर बार-बार बच्चों को भी एक चीज के लिए बार-बार कहा जाए तो वो ऐसा नहीं करते हैं। कृप्या कर परिवर्तन लाइए,,,वरना परिवर्तन खुद-ब-खुद हो जाएगा।' बताया जा रहा है कि इस बैठक के दौरान पीएम मोदी ने सांसदों को सूर्य नमस्कार करने की सलाह भी दी। उन्होंने कहा, सभी को सूर्य नमस्कार करना चाहिए और उसका कम्पटीशन करिये इससे सब स्वस्थ रहेंगे.. आपको संसद में रहना है।

पीएम मोदी ने कहा, '13 को मैं काशी जा रहा हूं...पहली बार आप सबके मैं वहां आने को नहीं कहूंगा...क्योंकि अभी संसद चल रही है। इसलिए आप सभी को संसद में रहना चाहिए...आप सब अपने अपने क्षेत्र में यही से रहकर लोगों को काशी कार्यक्रम बेहतर ढंग से देखने की व्यवस्था करनी चाहिए।' उन्होंने पार्टी सांसदों से कहा, मैं 14 दिसंबर को चाय पर चर्चा भी करूंगा. बनारस के सभी जिलों के पदाधिकारियों से चाय पर मिलूंगा।


पाकिस्तान का एफ-16 फाइटर जेट को ध्वस्त करने वाले कैप्टन अभिनंदन वीर चक्र से सम्मानित हुए

नई दिल्ली । बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो और पाकिस्तान का एफ-16 फाइटर जेट गिराने वाले ग्रुप कैप्टन अभिनंदन बर्तमान सोमवार को सम्मानित हुए। उन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीर चक्र देकर सम्मानित किया। अभिनंदन के सम्मान के दौरान राष्ट्रपति भवन तालियों से गूंज उठा। अभिनंदन ने 2019 में पाकिस्तानी एफ-16 लड़ाकू विमान को हवाई युद्ध में मार गिराया था। उस समय वे वायुसेना में विंग कमांडर थे। पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी कैंपों पर एयर स्ट्राइक की थी। इसमें कई आतंकी मारे गए और उनके ठिकाने तबाह हुए थे। इसके बाद पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों ने भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की थी, जिसका भारत ने करारा जवाब दिया था।

पाकिस्तान ने 1 मार्च की रात अभिनंदन को सौंपा था

कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर फिदायीन हमला हुआ था। इसमें 40 जवान शहीद हुए थे। हमले की जिम्मेदारी आतंकी मसूद अजहर के संगठन ने ली थी। इस हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक की थी। इससे बौखलाए पाकिस्तान ने अगले दिन यानी 27 फरवरी को कुछ एफ-16 विमानों को कश्मीर में भारत के सैन्य ठिकानों पर हमले के लिए भेजा था। पाकिस्तानी विमानों ने भारतीय एयरस्पेस में घुसपैठ कर हमले की कोशिश की, लेकिन भारतीय वायुसेना की मुस्तैदी से उसके नापाक मंसूबे ध्वस्त हो गए। भारत के मिग-21 और मिराज 2000 लड़ाकू विमानों ने उन्हें खदेड़ दिया था। मिग-21 के पायलट अभिनंदन ने डॉग फाइट में पाक विमान को मार गिराया था। इस दौरान भारतीय विमान भी पीओके में जा गिरा और पाकिस्तानी सैनिकों ने अभिनंदन को पकड़ लिया था। इसके बाद भारत ने कूटनीतिक तरीके से 1 मार्च को उन्हें छुड़ा लिया था।

प्रधानमंत्री मोदी 12 नवंबर को भारतीय रिजर्व बैंक की दो अभिनव उपभोक्ता केंद्रित पहलों का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 12 नवंबर को 11 बजे पूर्वाह्न में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भारतीय रिजर्व बैंक की दो अभिनव उपभोक्ता केंद्रित पहलों का शुभारंभ करेंगे। ये पहलें हैं - भारतीय रिजर्व बैंक की खुदरा प्रत्यक्ष योजना और रिजर्व बैंक – एकीकृत लोकपाल योजना।

भारतीय रिजर्व बैंक खुदरा प्रत्यक्ष योजना का उद्देश्य है कि सरकारी प्रतिभूति बाजार में खुदरा निवेशकों की पहुंच बढ़ाई जाये। इसके तहत खुदरा निवेशकों के लिये भारत सरकार और राज्य सरकारों द्वारा जारी प्रतिभूतियों में सीधे निवेश करने का रास्ता खुल जायेगा। निवेaशक भारतीय रिजर्व बैंक के हवाले से ऑनलाइन सरकारी प्रतिभूति खाते आसानी से खोल सकते हैं और उन प्रतिभूतियों का रख-रखाव कर सकते हैं। यह सेवा निशुल्क होगी।

भारतीय रिजर्व बैंक – एकीकृत लोकपाल योजना का उद्देश्य है कि शिकायतों को दूर करने वाली प्रणाली में और सुधार लाया जाये, ताकि संस्थाओं के खिलाफ ग्राहकों की शिकायतों को दूर करने के लिये भारतीय रिजर्व बैंक नियम बना सके। इस योजना की केंद्रीय विषयवस्तु ‘एक राष्ट्र-एक लोकपाल’ की अवधारणा पर आधारित है। इसके तहत एक पोर्टल, एक ई-मेल और एक पता होगा, जहां ग्राहक अपनी शिकायतें दायर कर सकते हैं। ग्राहक एक ही स्थान पर अपनी शिकायतें दे सकते हैं, दस्तावेज जमा कर सकते हैं, अपनी शिकायतों-दस्तावेजों की स्थिति जान सकते हैं और फीडबैक दे सकते हैं। बहुभाषी टोल-फ्री नंबर भी दिया जायेगा, जो शिकायतों का समाधान करने तथा शिकायतें दायर करने के बारे में सभी जरूरी जानकारी प्रदान करेंगे।कार्यक्रम में केंद्रीय वित्त मंत्री और भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर भी उपस्थित रहेंगे।


 

सांसद वरूण गांधी अचानक पहुंचे जीणधाम,सियासी चर्चाएं तेज

सीकर/जीणमाता.बीजेपी नेता और पीलीभीत सांसद वरुण गांधी मंगलवार को राजस्थान के सीकर जिले में स्थित जीणमाता धाम पहुंचे। उनके अचानक से मंदिर आने पहुंचने के बाद सियासी गलियारों में चर्चाएं तेज है।

करीब साढ़े 11 बजे अपने तीन साथियों सहित शक्तिपीठ जीणधाम पहुंचे

जानकारी के अनुसार यहां उन्होंने मां जीण भवानी की पूजा अर्चना की। सुबह करीब साढ़े 11 बजे अपने तीन साथियों सहित शक्तिपीठ जीणधाम पहुंचे । सांसद वरुण गांधी को भवानीशंकर व मुकेश पुजारी ने पूजा अर्चना करा कर दुपट्टा ओढ़ाया। इस दौरान उन्होंने विशेष संकल्प के लिए चढ़ाया जाने वाला नारियल माता को अर्पित किया। उन्होंने मंदिर परिसर में बने भंवर माता व हर्षनाथ भैरव की भी दर्शन किए।

मीडिया से किया किनारा

उल्लेखनीय है कि गांधी के जीण माता मंदिर पहुंचते ही उनके निजी सुरक्षा कर्मियों ने सभी को फोटो खींचने से मना कर दिया। फोटो खींच रहे मीडियाकर्मियों व अन्य लोगों को खुद वरूण गांधी ने भी इन्कार कर दिया। जब उन्हे मीडिया के पहुंचने की भनक लगी तो वे लगी तो तुरंत गाड़ी में बैठ कर 10 मिनट में ही मंदिर से रवाना हो गए।

गुपचुप पहुंचने के बाद चर्चाएं तेज

वरुण गांधी के गुपचुप में आकर पूजा कर मनौती मांगने को लेकर अलग- अलग बातें शुरू हो गई है। जानकारी मिली है कि गांधी मंदिर से जल्दी निकलना चाह रहे थे, लेकिन क्योंकि मंदिर के पुजारियों ने उनसे ट्रस्ट कार्यालय पहुंचने का विशेष आग्रह किया। इस पर गांधी मंदिर ट्रस्ट के कार्यालय पहुंचे। हालांकि फिर भी वे जल्द से जल्द यहां से रवाना हो गए।

म.प्र. के नक्सल प्रभावित जिलों में 12 लाख श्रमिकों को रोजगार- मुख्यमंत्री चौहान


श्रमिकों को 802 करोड़ के पारिश्रमिक का भुगतान
केन्द्रीय गृह मंत्री की अध्यक्षता में नई दिल्ली में नक्सल प्रभावित राज्यों की बैठक

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह की अध्यक्षता में नई दिल्ली में वामपंथी उग्रवाद पर समीक्षा बैठक में नक्सलवाद प्रभावित सभी राज्यों ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास के प्रति प्रतिबद्धता व्यक्त की। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश में नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नियंत्रण और विकास के लिये किये जा रहे प्रयासों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि वर्ष 2020-21 में नक्सल प्रभावित जिलों में 12 लाख श्रमिकों को रोजगार प्रदान कर 802 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। नक्सल प्रभावित क्षेत्र में विगत 5 वर्ष में 375 करोड़ रुपये के अधोसंरचनात्मक निर्माण कार्य कराये गये हैं। इसके अतिरिक्त ईनामी नक्सली मुठभेड़ में मारे गये हैं और गिरफ्तारी भी की गई है।

बैठक में केन्द्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री श्री गिरिराज सिंह, जनजातीय मामलों के मंत्री श्री अर्जुन मुंडा, दूरसंचार, सूचना-प्रौद्योगिकी और रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव, सड़क परिवहन और राजमार्ग राज्य मंत्री जनरल वी.के. सिंह और केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री श्री नित्यानंद राय भी उपस्थित थे। बैठक में बिहार, ओडिसा, महाराष्ट्र, तेलंगाना, मध्यप्रदेश और झारखण्ड के मुख्यमंत्री और आंध्र प्रदेश की गृह मंत्री, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और केरल के वरिष्ठ अधिकारी, केन्द्रीय गृह सचिव, केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के शीर्ष अधिकारी और केन्द्र तथा राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए।

प्रभावित क्षेत्रों में विकास कार्यों को निरंतरता

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बैठक में अवगत कराया कि प्रदेश के नक्सल प्रभावित जिलों में नक्सलवाद को नियंत्रित करने के लिये सशस्त्र कार्यवाही करने के साथ ही निरंतर विकासात्मक कार्य कराये जा रहे हैं। प्रभावित क्षेत्र में लोगों को वृहद स्तर पर मनरेगा अंतर्गत रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। मनरेगा के 12 लाख श्रमिकों को रोजगार प्रदान करते हुए 2020-21 की एक वर्ष की अवधि में ही 802 करोड़ 57 लाख रुपये का भुगतान किया गया है। विगत 5 वर्ष की अवधि में राज्य ने अपने स्रोतों से 375 करोड़ रुपये व्यय कर 430 किलोमीटर सड़कें एवं 14 पुल निर्मित किये हैं। इसके अतिरिक्त मध्यप्रदेश रूरल कनेक्टिविटी योजना एवं प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में 72 करोड़ के व्यय से 1405 किलोमीटर की सड़कें नक्सल प्रभावित जिलों में बनाई गई हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि मध्यप्रदेश में पूर्व में निरस्त वन अधिकार दावों पर पुनर्विचार करते हुए 34 हजार पट्टे जनजाति भाई-बहनों को दिए गए हैं।

जनजातियों के आर्थिक सशक्तीकरण के कार्य निरंतर

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि मध्यप्रदेश में जनजातियों के आर्थिक सशक्तिकरण के लिये निरंतर कार्य किये जा रहे हैं। अनुसूचित जनजाति ऋण विमुक्ति अधिनियम-2020 पारित किया है, जिससे अनुसूचित क्षेत्र में रहने वाले आदिवासियों को नियम विरूद्ध दिए गए ऋण अपने आप माफ हो गए हैं। राज्य में पेसा कानून को चरणबद्ध रूप से लागू करने का कार्य प्रारम्भ किया जा रहा है। "ग्राम न्यायालयों'' को सशक्त करने की दिशा में राज्य के नियमों में संशोधन किया जाएगा। देवारण्य योजना के तहत अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों में औषधियों के उत्पादन की तकनीक और उनके लिए बाजार लिंकेज उपलब्ध कराई जा रही है। वन विभाग के माध्यम से संचालित गतिविधियों से बालाघाट, मण्डला एवं डिंडौरी जिले में रोजगार सृजित हुआ है।

प्रभावित क्षेत्रों में रोजगार की उपलब्धता पर फोकस

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि बालाघाट, मण्डला, डिंडोरी जिलों में 23 हजार 113 महिला स्व-सहायता समूह बनाकर समूहों से 2 लाख 74 हजार परिवारों को जोड़ा गया है। ये समूह उन्नत खेती, पशुपालन उत्पादों के विपणन के साथ गैर कृषि क्षेत्र में भी कार्य कर रहे हैं। प्रदेश की उद्योग मित्र नीति के फलस्वरूप बालाघाट, मण्डला और डिंडोरी में रोजगार मेलों तथा स्व-रोजगार योजनाओं से एक अप्रैल, 2020 से अब तक 10 हजार 341 व्यक्तियों को रोजगार मिला है। बालाघाट में 18 अगस्त, 2021 को आयोजित इन्वेस्टर मीट में 16 उद्योगपतियों ने 2800 करोड़ के निवेश पर सहमति जताई है। इससे क्षेत्र के 4000 व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। साथ ही 54 एमएसएमई इकाइयों में लगभग 300 करोड़ के निवेश पर भी सहमति व्यक्त की गई।

पुलिस बल की कार्यवाही के अच्छे परिणाम

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में बताया कि ट्राईजंक्शन में तीनों राज्यों के पुलिस बल की संयुक्त कार्यवाही के अच्छे परिणाम आए हैं। सर्च ऑपरेशन एवं एरिया डॉमिनेशन बढ़ाया गया है। नक्सली दस्तावेजों और गिरफ्तार नक्सलियों की पूछताछ से स्पष्ट हुआ है कि ठेकेदारों से पहुँचने वाली करोड़ों रुपये की राशि नक्सलियों तक नहीं पहुँच सकी। मुख्यमंत्री ने बताया कि विगत 3 वर्षों में मध्यप्रदेश पुलिस ने 7 नक्सलियों को मारने और 3 नक्सलियों की गिरफ्तारी में सफलता प्राप्त की है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने पद से इस्‍तीफा दिया

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है। सिंह ने पजाब के राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें और उनके मंत्रिपरिषद का इस्तीफा सौंप दिया है। राजभवन से बाहर आकर मीडिया से बात करते हुए उन्‍होंने कहा, जिस तरह से बातचीत हुई उससे मैं खुद को अपमानित महसूस कर रहा हूं। मैंने आज सुबह कांग्रेस अध्यक्ष से बात की, उनसे कहा कि मैं आज इस्तीफा दे दूंगा। हाल के महीनों में यह तीसरी बार है जब विधायकों से मुलाकात हुई है। यही कारण है कि मैंने छोड़ने का फैसला किया। जिस पर उन्हें (पार्टी आलाकमान) भरोसा है, वह उन्हें (पंजाब सीएम) बना सकता है। मैं कांग्रेस पार्टी में हूं, अपने समर्थकों से सलाह लूंगा और भविष्य की कार्रवाई तय करूंगा। कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू हो गई है। इसमें 79 विधायक, कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत, दो केंद्रीय पर्यवेक्षक अजय माकन व हरीश राय चौधरी मौजूद हैं। इसमें विधायक दल का नेता चुना जाएगा। अमरिंदर इस बैठक में नहीं पहुंचे हैं।


केंद्रीय मंत्री एल मुरुगन बने राज्यसभा उपचुनाव के लिए भाजपा उम्मीदवार

केंद्रीय सूचना और प्रसारण राज्यमंत्री एल मुरुगन मध्य प्रदेश राज्यसभा उपचुनाव के लिए भाजपा के उम्मीदवार बनाया गया है। एल मुरुगन तमिलनाडु से आते हैं और वहां प्रदेश भाजपा अध्यक्ष भी हैं। अभी वे किसी सदन के सदस्य नहीं हैं, उन्हें 6 माह में संसद सदस्य बनना जरूरी था। इसलिए सुरक्षित सीट चुनी गई।



पाटीदार नेता भूपेंद्र पटेल गुजरात के अगले मुख्यमंत्री होंगे

पाटीदार नेता भूपेंद्र पटेल गुजरात के अगले मुख्यमंत्री होंगे। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई गई। वह घाटलोडिया सीट से विधायक हैं। विजय रूपाणी ने उनके नाम का प्रस्ताव रखा, जिस पर सभी विधायकों ने सहमति जताई। हालांकि, भूपेंद्र पटेल नाम अटकलों से काफी दूर था।  

पटेल अहमदाबाद म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन (एमसी) के पूर्व अध्यक्ष हैं। वह अहमदाबाद अर्बन डिवेलपमेंट अथॉरिटी (एयूडीए) के चेयरमैन भी रह चुके हैं। उन्हें पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटले का कारीबी भी माना जाता है। आनंदीबेन पटले भी घाटलोडिया सीट से चुनाव लड़ती थीं। भूपेंद्र पटेल 2017 में ही पहली बार विधायक बने और पहले ही कार्यकाल में मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। 

भूपेंद्र पटेल जल्द ही राज्यपाल से मुलाकात करेंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। दरअसल विजय रूपाणी के गुजरात के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद अगले मुख्यमंत्री की तलाश शुरू हुई थी। 

भाजपा विधायक दल की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक नरेंद्र सिंह तोमर और प्रह्लाद जोशी और पार्टी महासचिव तरुण चुग भी मौजूद रहे। तोमर ने रविवार सुबह भाजपा के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष सी आर पाटिल से मुलाकात की थी। रूपाणी (65) ने शनिवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने अगले साल राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अचानक इस्तीफे की घोषणा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के गृह राज्य गुजरात की 182 विधानसभा सीटों के लिए दिसंबर 2022 में चुनाव होने हैं।

रूपाणी (65) कोरोना वायरस महामारी के दौरान भाजपा शासित राज्यों में पद छोड़ने वाले चौथे मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने दिसंबर 2017 में मुख्यमंत्री के तौर पर दूसरी पारी के लिए पद की शपथ ली थी। उन्होंने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात और उन्हें इस्तीफा पत्र सौंपने के बाद पत्रकारों से कहा, ''मैंने गुजरात के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। मुझे पांच साल तक राज्य की सेवा करने का मौका दिया गया। मैंने राज्य के विकास में योगदान दिया। मेरी पार्टी जो कहेगी, आगे मैं वही करूंगा।'' रूपाणी सबसे पहले आनंदीबेन पटेल के इस्तीफे के बाद सात अगस्त 2016 को गुजरात के मुख्यमंत्री बने थे और वह 2017 विधानसभा चुनावों में भाजपा की जीत के बाद पद पर बने रहे। 

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने दिया इस्तीफा

गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले बड़ी खबर सामने आई है। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। वह राज्यपाल से मिलने पहुंचे और अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दिया। इसके बाद गुजरात में राजनीतिक हलचल तेज हो गई हैं। 


विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ कैट ने खोला बड़ा मोर्चा

         रविकांत दुबे AD News 24

देश के ई-कॉमर्स व्यापार में जिस तरह से विदेशी कंपनियां ई-कॉमर्स  नियमों का खुला उल्लंघन कर रही हैं और कानूनों को तोड़-मरोड़कर भारत के ई-कॉमर्स व्यापार पर कब्ज़ा जमाने की एक सोची समझी साजिश के तहत काम कर रही हैं, उसके खिलाफ देश भर में अपनी आवाज़ बुलंद करने तथा सरकार द्वारा उपभोक्ता क़ानून के अंतर्गत प्रस्तावित नियमों को तुरंत लागू करने की मांग को लेकर कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) द्वारा आज दिल्ली में आयोजित एक राष्ट्रीय सम्मेलन में देश के विभिन्न राज्यों के प्रमुख नेताओं ने विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों की कड़ी आलोचना करते हुए आगामी 15 सितम्बर से देश भर में एक महीने तक ई-कॉमर्स पर हल्ला बोल का एक राष्ट्रीय अभियान चलाने की घोषणा की है । सम्मेलन में देश के 27 राज्यों के लगभग 100 से अधिक व्यापारी नेताओं ने भाग लिया !

कैट के मध्यप्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र जैन ने बताया की सम्मेलन में यह निर्णय लिया गया की इस अभियान के अंतर्गत देश के सभी राजनैतिक दलों को कैट पत्र भेजकर यह स्पष्ट करने को कहा जाएगा की ई-कॉमर्स को लेकर उनकी पार्टी का क्या नजरिया है ! सभी दलों के जवाब का देश के व्यापारी इंतज़ार करेंगे और इस वर्ष होने वाले विधानसभा चुनावों तथा आगामी लोकसभा चुनावों में व्यापारियों की क्या भूमिका होगी, इस पर समय पर निर्णय लिया जाएगा ! उन्होंने कहा की जब सब कुछ वोट बैंक पर ही केंद्रित हो गया है तो अब व्यापारी भी अपने आपको एक वोट बैंक में बदलने से नहीं चूकेंगे !

 श्री जैन ने बताया की चूंकि यह विदेशी ई कॉमर्स कंपनियां ईस्ट इंडिया कंपनी के रूप में काम कर रही हैं जिससे देश के रिटेल बाजार, ई कॉमर्स व्यापार सहित देश की अर्थव्यवस्था पर बुरा विपरीत प्रभाव पड़ रहा है इस दृष्टि से अब यह जरूरी हो गया है की व्यापारी संगठनों के अलावा देश में व्यापारियों के जरिये काम कर रही बड़ी कंपनियों जैसे टाटा, गोदरेज, रिलायंस, हिन्दुतान लीवर, पतंजलि ,किशोर बियानी ग्रुप,आदित्य बिरला ग्रुप, एमवे .श्रीराम ग्रुप, पीरामल ग्रुप, कोका कोला सहित अन्य बड़ी कॉर्पोरेट कंपनियों के साथ मिलकर एक साझा मंच बनाया जाए वहीँ देश के रिटेल व्यापार के विभिन्न नामचीन विशेषज्ञ जैसे स्वामी रामदेव, सुहेल सेठ, एस. गुरुमूर्ति तथा ट्रांसपोर्ट के संगठन आल इंडिया  ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन, हॉकर्स के संगठन नेशनल हॉकर्स फेडरेशन, किसानों के संगठन अखिल भारतीय किसान मंच, लघु उद्योग भारती, स्वदेशी जागरण मंच, राष्ट्रीय एमएसएमई फोरम, उपभोक्ताओं के संगठन अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत सहित अर्थव्यवस्था के अन्य वर्गों के प्रमुख संगठनों को भी इस अभियान से जोड़कर एक बृहद मंच कैट की पहल पर तुरंत बनाया जाएगा और अब सामूहिक रूप से इस लड़ाई को देश भर में लड़ा जाएगा !

श्री जैन ने कहा कि भारत का व्यापार भारत में ही रहना चाहिए और उसका लाभ भी देश के उपभोक्ताओं, व्यापारियों एवं उद्योग को मिलना चाहिए, इस दृष्टि से सम्मेलन ने यह निर्णय लिया है की यह एक बड़ी लड़ाई है और किसी भी विदेशी कम्पनी को ईस्ट इंडिया कम्पनी बनने से रोकने में देश के सभी वर्गों को अब एक मंच पर लाना जरूरी है तभी देश के ई कॉमर्स एवं रिटेल व्यापार को इन विदेशी कंपनियों के कुटिल चंगुल से बचाया जा सकता है ! इस हेतु कैट इस मुद्दे पर पहल करते हुए इन सभी कंपनियों के प्रमुखों एवं संगठनों के नेताओं से बात कर एक साझा देशव्यापी अभियान चलाएगा!

श्री जैन ने कहा कि सरकार द्वारा बनाये गए ई कॉमर्स के नियम देसी अथवा विदेशी सभी ई-कॉमर्स कंपनियों पर समान रूप से लागू होने चाहिए जिससे कोई भी कम्पनी ई कॉमर्स व्यापार को अपना बंधक न बना सके और जिसके अनुरूप  सम्मेलन में सर्वसम्मति से पारित  एक प्रस्ताव में केंद्रीय वाणिज्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री श्री पियूष गोयल से पुरजोर आग्रह किया गया है की प्रस्तावित ई-कॉमर्स नियमों को तुरंत लागू किया जाए तथा सरकार किसी भी तरह के दबाव में न आये ! देश के 8 करोड़ व्यापारी सरकार के साथ मजबूती से खड़े हैं !

उन्होंने बताया की 15 सितम्बर को देश के विभिन्न राज्यों  में एक हजार से  अधिक स्थानों पर देश भर के व्यापारिक संगठन एक धरना आयोजित करेंगे वहीँ दूसरी तरफ 23 सितम्बर को प्रत्येक जिला के कलेक्टर को प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन सौंपा जाएगा ! इसके अलावा 30 सितम्बर तक प्रत्येक राज्य के मुख्यमंत्री, सांसदों एवं विधायकों को भी एक ज्ञापन दिया जाएगा ! इसके अलावा 10 अक्तूबर  से 14 अक्तूबर  के बीच विभिन्न राज्यों में विदेशी कंपनियों के पुतलों को रावण का रूप देकर उनको  जलाया जाएगा ! इसके अलावा इस एक महीने के अभियान में देश के बाज़ारों में व्यापारी रैली निकाल कर विदेशी ई कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ अपना जबरदस्त विरोध दर्ज़ करेंगे !

दिल्ली में आयोजित इस राष्ट्रीय सम्मेलन में मध्यप्रदेश से कैट अध्यक्ष भूपेन्द्र जैन, प्रदेश संगठन मंत्री गोविन्द दास असाटी, उपाध्यक्ष अंशु गुप्ता, रवि तलरेजा, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रीना गांधी, मध्यप्रदेश एडवाईजरी बोर्ड के सदस्य मनीष दुसाज, विदिशा से मनीष लश्करी आदि शामिल हुए।

केरल में बढ़ते कोरोना मामले, लौटा वीकेंड लॉकडाउन

तिरुवनंतपुरम: कोरोना वायरस के तेज़ी से बढ़ते हुए मामलों के बीच केरल (Kerala) सरकार ने एक बार फिर सख्त कदम उठाने शुरू किए हैं. राज्य में वीकेंड पर सख्ती बरकरार रखी जाएगी और संपूर्ण लॉकडाउन लगाया जाएगा. इस बार 31 जुलाई और 1 अगस्त को पूरी तरह से लॉकडाउन लगाया जाएगा.

केरल सरकार की ओर से जानकारी दी गई है कि राज्य में शनिवार और रविवार को सख्ती रखी जाएगी. इसके अलावा जो छूट दी गई हैं, वो सिर्फ सोमवार से शुक्रवार तक लागू रहेंगी. वीकेंड पर राज्य में संपूर्ण लॉकडाउन रहेगा. हालांकि, इस दौरान किताबों की प्रिटिंग से जुड़े लोग कामकाज कर सकेंगे.

केरल में ये फैसला तब लिया गया है जब पिछले कुछ दिनों में तेजी से कोरोना के केस बढ़ने लगे हैं. अभी हाल ही में ईद पर राज्य सरकार ने नियमों में ढील दी थी, जिसके बाद अचानक ही नए केस तेज़ी से बढ़े हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में जो नए केस आ रहे हैं उनमें से पचास फीसदी केरल से ही आ रहे हैं. अब केंद्र सरकार की ओर से 6 सदस्यों की एक टीम राज्य में भेजी जा रही है. जो राज्य के हालात का जायजा लेगी और राज्य सरकार के साथ मिलकर काम करेगी.

देश में कोरोना वायरस के इस वक्त 3.97 लाख एक्टिव केस हैं, इनमें से करीब 1.49 लाख एक्टिव केस सिर्फ केरल से ही हैं. केरल के कई जिले ऐसे हैं, जहां पिछले कुछ दिनों में अचानक नए केस की संख्या दोगुना हो गई है.


Featured Post

25 जुलाई 2024, गुरूवार का पंचांग

*सूर्योदय :-* 05:39 बजे   *सूर्यास्त :-* 19:16 बजे  *विक्रम संवत-2081* शाके-1946  *वी.नि.संवत- 2550*  *सूर्य -* सूर्यदक्षिणायन, उत्तर  गोल  ...